लखीमपुर : सड़क सुरक्षा को लेकर एक तरफ सहायक संभागीय परिवहन विभाग की ओर से अभियान चलाया जा रहा है, दूसरी तरफ शहर की सड़कों पर दुपहिया वाहनों पर ट्रिपलिग के नजारे आम हो चुके हैं।इतना ही नहीं कारों में सीट बेल्ट भी लगाने की जरूरत लोग नहीं समझ रहे।

ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन शहर की परंपरा बन चुका है जिसके चलते दुर्घटनाओं की संख्या में भी इजाफा हुआ है इसे रोकने में परिवहन विभाग कहां तक सफल है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि आए दिन शहर के प्रमुख मार्गों पर दुर्घटनाएं हो रही है फिर भी लाखों की संख्या में भी नहीं आ रही।

सहायक संभागीय परिवहन विभाग द्वारा चलाए गए अभियान के बावजूद शहर में बिना हेलमेट, सीट बेल्ट चलने वाले, ड्राइविग के दौरान मोबाइल पर बात करने वालों की संख्या में कमी नहीं आई है। इसमें ट्रैफिक का पालन करवाने वाले पुलिस विभाग के सिपाही भी शामिल हैं। दर्शाए गए चित्र में कलेक्ट्रेट के निकट सपा कार्यालय के पास बाइक चला रहा सिपाही जहां बिना हेलमेट के है वहीं , वहीं शहर के प्रमुख हीरालाल धर्मशाला के सामने ओवर ब्रिज के नीचे से जा रही कार में बिना बेल्ट के ड्राइवर गाड़ी चला रहा है रोडवेज बस स्टैंड वाली सड़क पर बाइक पर ट्रिपलिग का ²श्य भी है जहां बिना हेलमेट के फर्राटा भर रहे युवक है यह कुछ ²श्य तो बानगी भर हैं। पूरे जिले भर में यही हाल है।

एआरटीओ प्रवर्तन आरके चौबे का कहना है कि अभियान चलाकर शक्ति की जा रही है दूसरे दिन उन्होंने हेलमेट सीट बेल्ट मोबाइल को लेकर रामापुर चौराहा और पंडित दीनदयाल उपाध्याय सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज के निकट जो अभियान चलाया उसमें अब तक 138 लोगों के चालान किए हैं शहर में अंदर भी अभियान चलेगा और सस्ती होगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस