संवादसूत्र, लखीमपुर: जिले की आठ विधानसभा में शांतिपूर्ण मतदान के लिए पुलिस प्रशासन चाक-चौबंद व्यवस्था करने में जुटा है। अधिकारियों ने पुलिस मुख्यालय भेजी गई डिमांड में अधिकारियों ने 1000 हजार दारोगा और 6500 सिपाहियों की मांग की है। इसके अलावा

अर्धसैनिक बलों की 95 कंपनियों की डिमांड पहले ही भेजी जा चुकी है। वहीं दूसरी ओर प्रथम चरण (10 फरवरी) का मतदान कराने के लिए छह फरवरी को जिले से 80 दारोगा व 950 सिपाही सहारनपुर भेजे जा रहे हैं, वहां मतदान संपन्न कराने के बाद खीरी जिले की पुलिस फोर्स द्वितीय चरण (14 फरवरी) का मतदान कराने के लिए शामली जिले के लिए रवाना होगी। वहां मतदान संपन्न होने के बाद पुलिस फोर्स वापस लौट आएगी।

जिले की आठ विधानसभा में मतदान कराने के लिए बड़े पैमाने पर सुरक्षा बल तैनात किया जा रहा है। वर्ष 2017 के चुनाव के मुकाबले वर्नरेबिल पोलिग बूथों की संख्या बढ़कर 50 से 56 और अति संवेदनशील (क्रिटिकल) पोलिग बूथों की संख्या 117 से 630 हो गई है। बूथों की संवेदनशीलता बढ़ने के कारण अधिकारी सुरक्षा इंतजामों में कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं। खासकर राजनीतिक व जातिगत पोलिग बूथों पर अर्धसैनिक बलों को तैनात करने की तैयारी की जा रही है। इसी के मद्देनजर संबंधित इलाकों के थानाध्यक्ष से सुरक्षा बलों को ठहराने के लिए सरकारी स्कूलों सहित अन्य भवनों की रिपोर्ट मांगी जा रही है। साथ ही वहां संसाधनों को बढ़ाया जा रहा है। अधिकारियों का कहना है कि पुलिस फोर्स के साथ जिले में मतदान के दिन ड्यूटी के लिए करीब 3000 होमगार्ड भी अन्य जिलों से मंगाए जा रहे हैं।

Edited By: Jagran