कुशीनगर: स्वच्छता अभियान को गति देने और कूड़ा निस्तारण के लिए शासन की ओर से दिए गए निर्देश पर नगर पंचायत कप्तानगंज की ओर से पहल तो हुई, लेकिन परियोजना परवान न चढ़ सकी। डंपिग ग्राउंड बनाकर कूड़ा तो गिराया जा रहा है, लेकिन मशीन न लगने से कूड़ा से खाद बनाने की परिकल्पना पूरी नहीं हो सकी है।

प्रदेश सरकार ने तीन वर्ष पहले आदेश दिया था कि सभी नगरीय क्षेत्रों में कूड़ा निस्तारण की व्यवस्था करते हुए खाद बनाई जाए। इससे स्वच्छता अभियान को गति मिलेगी और गली-मोहल्ले साफ रहेंगे। आदेश का अनुपालन करते हुए नगर पंचायत ने राजस्व विभाग की मदद से बसहिया उर्फ कप्तानगंज में भूमि की व्यवस्था कर ली। उसकी चहारदीवारी बनवाकर गेट लगा दिया गया। कस्बा का कूड़ा अब वहीं गिराया जाता है। मशीन न लगने से अभी कूड़ा से खाद नहीं बनाई जा रही है।

सफाई व्यवस्था में सुधार की जरूरत

-कस्बा के शिक्षक सुभाष तिवारी ने कहा कि सफाई व्यवस्था में और सुधार की जरूरत है। हमारे मोहल्ले से कूड़ा तो उठाया जाता है, लेकिन नाली की सफाई में लापरवाही की जाती है। रमेश सिंह ने कहा कि कभी-कभी दो दिनों तक सड़क पर कूड़ा पड़ा रहता है। ज्ञानू दूबे ने कहा कि नाली की सफाई के प्रति अधिकारियों को सजग होना पड़ेगा। ओंकारनाथ मिश्रा ने कहा कि सफाई कर्मचारियों की लापरवाही से कई दिनों तक मोहल्ले में कूड़ा पड़ा रहता है।

-विनय कुमार मिश्र, अधिशासी अधिकारी ने बताया कि कूड़ा निस्तारण के लिए मटेरियल रिकवरी फैसिलिटी सेंटर (एमआरएफसी) बनाने व मशीन लगाने का टेंडर हो चुका है। भवन निर्माण पूरा होने पर मशीन लगा दी जाएगी और खाद बनाने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

-आभा गुप्ता, नगर पंचायत अध्यक्ष ने बताया कि नगर पंचायत की ओर से डंपिग ग्राउंड बना दिया गया है। कस्बा का कूड़ा वहीं गिराया जाता है। कूड़ा को छांटने और खाद बनाने के लिए संसाधन जुटाए जा रहे हैं। शीघ्र मशीन भी लगेगी और कूड़ा से खाद भी बनेगी।

Edited By: Jagran