कुशीनगर: बुद्ध पीजी कालेज कुशीनगर में सन1956 में म्यांमार के तत्कालीन प्रधानमंत्री ऊ नू ने जिस बरगद का पेड़ लगाया था उसके संरक्षण का कार्य प्रारंभ हो गया है। वृक्ष के नीचे चारों तरफ झाड़-झंखाड़ और गंदगी थी जिसकी साफ-सफाई नगरपालिका परिषद के सौजन्य से हुई।

नई दिशा पर्यावरण सेवा संस्थान के सचिव डॉ. हरिओम मिश्र की योजना के अनुसार साफ-सफाई के बाद वटवृक्ष के चबूतरे का निर्माण कराया जाएगा। बैठने के लिए कुछ बेंच का भी निर्माण होगा। वटवृक्ष के इतिहास की जानकारी के लिए एक बोर्ड लगेगा। मिश्र ने बताया कि बौद्ध धर्म में वटवृक्ष का बहुत महत्व है। सुजाता ने वटवृक्ष के नीचे ही बुद्ध को खीर दान किया था। बाद में उन्हें बोधिवृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्त हुआ।

स्थल और कार्य का निरीक्षण विधायक रजनीकांत मणि त्रिपाठी, सचिव डॉ. दयाशंकर तिवारी, प्राचार्य डॉ. अमृतांशु शुक्ल, केशव सिंह, रामअधार यादव, डॉ. त्रिभुवन नाथ त्रिपाठी, डॉ. गौरव तिवारी आदि ने किया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप