कुशीनगर : तुर्कपट्टी क्षेत्र के गांव भेलया चंद्रौटा स्थित शहीद चौक पर शनिवार को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के तत्वाधान में अमृत महोत्सव का आयोजन किया गया। इस दौरान शहीदों के प्रति श्रद्धा सुमन अर्पित किया गया।

मुख्य अतिथि गोरक्ष प्रांत के प्रांत प्रचारक भाई सुभाषजी ने कहा कि भारत के नागरिकों की देश भक्ति ही भारत की हस्ती है। इस हस्ती को और मजबूत करने के लिए शहीद अमिय त्रिपाठी ने अपने प्राणों की आहुति दे दी। कहा कि महोत्सव का उद्देश्य गुमनाम क्रांतिकारियों, सेनानियों और बलिदानियों के बारे में जानकारी एकत्रित कर उन्हें सम्मान दिलाने की कोशिश है। उनके योगदान को नई पीढ़ी से अवगत कराना और उनके स्वजन को उनके गुणों को आत्मसात करने के लिए प्रेरित करना है। डा. सीएस सिंह ने कहा कि इतिहास में कुछ ही क्रांतिकारियों अथवा सेनानियों के नामों की चर्चा हुई है, लेकिन अधिकांश अब भी गुमनाम हैं। ऐसे अप्रत्यक्ष सेनानियों को न तो सत्ता की भूख थी और न ही वह नाम कमाना चाहते थे। भारत अध्ययन केंद्र काशी विद्यापीठ से आए डा. अनूप पति त्रिपाठी ने कहा कि राष्ट्रीय आंदोलनों में समाज के हर वर्ग के लोगों की समान सहभागिता होती है। यह अमृत महोत्सव भी एक राष्ट्रीय आंदोलन है। आयोजक सेवानिवृत्त आरटीओ अजय त्रिपाठी ने कहा कि जो समाज को जानेगा, वहीं उसके बारे में चितन कर सकता है। कार्यक्रम में शहीद चंद्रभान चौरसिया व देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले शहीदों के स्वजन को अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया गया।

अध्यक्षता शोभा मणि त्रिपाठी ने की, संचालन कवि एवं गीतकार मनंजय त्रिपाठी ने किया। संस्कार भारती की बालिकाओं द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। जिला प्रचारक आलोक, डा. अक्षवर पांडेय, अजय राय, जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि राजन शुक्ल, शक्ति प्रकाश दीक्षित, श्रीनिवास राय, पंकज पांडेय, परशुराम सिंह, धर्मेंद्र त्रिपाठी, नंदलाल तिवारी,भाजयुमो जिला महामंत्री शैलेंद्र कुमार तिवारी, देवेंद्र नाथ तिवारी, सोनू मद्धेशिया, मैतुल मस्ताना, प्रिस पांडेय, अजय निगम, पंकज ओझा, आजाद अंसारी, सत्येंद्र सिंह, पिटू सिंह आदि उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran