कुशीनगर: सांसद विजय कुमार दूबे की पहल पर भगवान बुद्ध की महापरिनिर्वाण स्थली कुशीनगर को रेल लाइन से जोड़ने के लिए प्रस्तावित गोरखपुर-पडरौना वाया कुशीनगर परियोजना की आस जगी है। इसके लिए सांसद ने रेल मंत्री पीयूष गोयल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र सौंपा था। परियोजना के लिए धन आवंटित करने को सीएम ने रेल मंत्री को पत्र भेजा है।

सांसद ने बताया कि इस परियोजना का वर्ष 2017 में सर्वे हुआ था। वित्तीय मंजूरी न मिलने की वजह से अटकी हुई है। मैनें मुख्यमंत्री के संज्ञान में डाला तो उन्होंने त्वरित कार्रवाई करते हुए रेल मंत्री को वित्तीय स्वीकृति के लिए पत्र प्रेषित किया। सीएम की ओर से भेजे गए पत्र का हवाला देते हुए सांसद ने कहा कि परियोजना के लिए 1345 करोड़ की जरूरत है। सर्वे के बाद 64.5 किमी लंबी इस परियोजना को वित्तीय वर्ष 2018-19 में ही प्रशासनिक स्वीकृति मिल गई थी। धन के अभाव में परियोजना आगे नहीं बढ़ रही है। मुख्यमंत्री ने रेलमंत्री से प्राथमिकता के आधार पर धन स्वीकृत करने का आग्रह किया है।

सरकार की नीतियों से बढ़ रही खादी की चमक: रजनीकांत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खादी व ग्रामोद्योग को बढ़ा देने के लिए कई योजनाएं चला रहे हैं। उन्होंने ने खुद चरखा चलाकर विश्व स्तर पर खादी के प्रति आकर्षण बढ़ाया है। केंद्र व प्रदेश सरकार की नीतियों से खादी उत्पादों की चमक बढ़ रही है।

यह बातें विधायक रजनीकांत मणि त्रिपाठी ने कही। वे नगर स्थित बेनेट क्लब परिसर में शनिवार को खादी ग्रामोद्योग संस्थान सपहां फाजिलनगर की ओर से लगाई गई प्रदर्शनी का शुभारंभ करने के बाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। कहा कि सरकार की नीतियों के कारण स्वदेशी की अवधारणा मजबूत हुई है।

भाजपा के जिला उपाध्यक्ष दिवाकर मणि त्रिपाठी ने कहा कि खादी ग्रामोद्योग के उत्पादों ने रोजगार सृजन, स्वावलंबन का परचम लहराया है। बेनेट क्लब के अध्यक्ष एडवोकेट राकेश त्रिपाठी ने भी विचार व्यक्त किए। आयोजक पंकज पांडेय ने अतिथियों के प्रति आभार प्रकट किया। डा. मधुसूदन मिश्र, एडवोकेट राकेश श्रीवास्तव, ओमप्रकाश पांडेय, दीनदयाल मल्ल, कन्हैया यादव आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran