जागरण संवाददाता, पडरौना, कुशीनगर: कोतवाली क्षेत्र के गांव जंगल विशुनपुरा से सटे बागीचे में बुधवार सुबह एक किशोर का शव मिला। इसकी खबर पूरे गांव में फैल गई। चौकीदार ने इसकी सूचना पुलिस को दी। जांच पड़ताल कर पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया। किशोर की पहचान उसी गांव के 14 वर्षीय अभिषेक चौधरी के रूप में हुई। वह सोमवार से गायब था।

जंगल विशुनपुरा के कुछ मजदूर सुबह लगभग आठ बजे धान काट रहे थे। एक मजदूर नजदीक स्थित लीची के बागीचे में सूखी लकड़ी बीनने लगा। इस दौरान पेड़ से शव लटका देख वह अवाक रह गया। शोर मचाते हुए वह धान काट रहे मजदूरों के पास पहुंचा और यह जानकारी दी। थोड़ी ही देर में यह खबर पूरे गांव में फैल गई। मौके पर लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई। शव की शिनाख्त अभिषेक चौधरी के रूप में हुई। यह खबर मिलते ही परिवार में कोहराम मच गया। पुलिस ने जांच पड़ताल के बाद शव को कब्जे में ले लिया। गांव के लोगों ने बताया कि सोमवार सुबह करीब 11 बजे वह गांव के चौराहे पर गया था। देर शाम तक घर न लौटने पर परेशान स्वजन उसकी तलाश में जुट गए, लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिला। सुबह कोतवाली पहुंच पिता दिनेश चौधरी ने तहरीर देकर इसकी जानकारी दी थी। अभिषेक इकलौता पुत्र था। पिता ने हत्या का आरोप लगाया है। कोतवाल अनुज कुमार सिंह ने बताया कि मामला दर्ज कर जांच की जा रही है। गला दबाकर की गई है अभिषेक की हत्या

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में अभिषेक की मौत गला दबाने से होने की बात कही गई है। रिपोर्ट से यह बात साफ है कि हत्यारों ने घटना को अंजाम देने के बाद शव को पेड़ से लटका दिया, जिससे कि हत्या को आत्महत्या का रूप दिया जा सके।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021