जागरण संवाददाता, कौशांबी : जिला अस्पताल को मिले वेंटिलेटर प्रयागराज भेजे गए थे। वहां से उनको एक निजी अस्पताल को दे दिया। शुक्रवार को ग्रामीण व शहरी क्षेत्र के लोगों ने विरोध जताते हुए काला मास्क पहना और इंटरनेट मीडिया के माध्यम से विरोध दर्ज कराया। कौशांबी के लोग वेंटिलेटर वापस लाना चाहते हैं। जिससे गरीब परिवार के बीमारों को जिला अस्पताल के माध्यम से निश्शुल्क उपचार मिल सके।

कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष अशीष कुमार पप्पू मिश्र व कोषाध्यक्ष वेद पांडेय ने जिला अस्पताल इन दिनों गंभीर मरीजों के लिए केवल रेफर सेंटर बन गया है। जिले को मिले 24 वेंटिलेटर में 15 प्रयागराज को भेज दिए। वहां से वह यूनाइटेड मिड सिटी अस्पताल को दे दिए गए। ग्राम पंचायत पतौता के जयप्रकाश गौतम, सेहिया आमदकरारी के फूलचंद्र व अलीपुरजीता के प्रदीप सक्सेना आदि लोगों भी वेंटिलेटर वापस लाने के लिए आगे आ गए हैं। जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था खराब है। कोई गंभीर प्रकृति का मरीज जिला अस्पताल आता है तो उसे रेफर कर दिया जा रहा है। वेंटिलेटर लोगों का जीवन बचाने के लिए जरूरी है। इसे वापस लाना होगा। इंटरनेट मीडिया के माध्यम से अब तक तमाम लोग प्रदेश सरकार के मंत्री, विधायक व अधिकारियों से शिकायत कर रहे हैं। ऑक्सीजन की कमी से मर रहे लोग, काटे जा रहे पेड़

संसू, देवीगंज: महामारी के दौर में जहां एक और देश में मरीज ऑक्सीजन की कमी के चलते दम तोड़ रहे हैं। तो वही जिम्मेदारों की लापरवाही से कड़ा क्षेत्र में लकड़ी माफिया ताबड़तोड़ हरियाली नष्ट कराने में जुटी है। कड़ा धाम थाना क्षेत्र के महज आधा किलो मीटर की दूरी पर शुक्रवार की सुबह लकड़हारे ने आम का एक हरा पेड़ काटकर गिरा दिया। स्थानीय लोगों का कहना है कि क्षेत्र में लकड़ी माफिया सक्रिय हैं और हर दिन दो चार हरे पेड़ काटे जा रहे है। जिले को हरा भरा बनाने के लिए वन विभाग सहित अन्य विभागों द्वारा पौधरोपण अभियान चलाकर हजारों पौधा रोपित किए जाते हैं।