कौशांबी : कोखराज थाना क्षेत्र के ककोढ़ा गांव में बागवान की हत्या कर पत्नी पर कातिलाना हमला करने वाले दो आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने तीन अन्य आरोपितों को भी पकड़ लिया। सप्ताह भर पहले आम तोड़ने के हुए विवाद के बाद पुरानी खुन्नस में बागवान की हत्या का जुर्म आरोपितों ने कबूल किया। कत्ल में प्रयुक्त दो डंडे व लोहे का गहदाला के अलावा तमंचा बरामद किया। प्रेस कांफ्रेंस में मामले का राजफाश शुक्रवार को एसपी राधेश्याम ने किया। इसके बाद आरोपितों को न्यायालय में पेश कर जेल भेजा गया।

ककोढ़ा निवासी बृजलाल गांव के बाहर आम के बाग की रखवाली करता है। साथ ही सब्जी और आम बेचने का काम करता था। बुधवार की रात कातिलों ने गहदाला व डंडे से वार कर बृजलाल की हत्या कर दी। बीच-बचाव करने आई पत्नी मीना को भी हमलावरों ने लहूलुहान कर दिया। मीना अपनी जान बचाकर पास के पेट्रोल पंप पर पहुंची और वहां के कर्मचारियों को आपबीती सुनाई। तब तक घटना को अंजाम देकर कातिल फरार हो गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण कर मृतक के बेटे मुकेश की तहरीर पर दो नामजद व दो अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज किया। पुलिस ने नामजद आरोपित शिवबाबू व शिवकुमार उर्फ विकास को ककोढ़ा गांव में उसके घर से गिरफ्तार कर लिया जबकि अन्य की तलाश शुरू की। पूछताछ में पता चला कि हत्या करने में चार नहीं बल्कि पांच लोग शामिल थे। तीन अन्य आरोपित कशिया पश्चिम निवासी शिवसागर, दिलीप और प्रदीप हैं। पुलिस ने उनकी निशानदेही पर बाग के बाहर झाड़ियों से हत्या में प्रयुक्त डंडा व गहदाला बरामद कर लिया। गुरुवार को प्रेस कांफ्रेंस के दौरान एसपी ने बताया कि फरार चल रहे तीनों आरोपितों को पुलिस टीम ने देर रात सकाढ़ा तिराहा के समीप से गिरफ्तार कर लिया। आरोपित शिवसागर के पास से तमंचा भी बरामद किया गया है। शिवबाबू ने बताया कि सप्ताह भर पहले आम तोड़ने को लेकर बृजलाल से झगड़ा हुआ था। इसी के बाद से उसने अपने साथियों के साथ हत्या की प्लानिग कर रहा था।

Edited By: Jagran