जासं, कौशांबी : नकल विहीन परीक्षा संचालित करने के हर शासन हर पहलू पर विचार कर रहा है। इसके लिए शासन स्तर पर संवेदनशीन व अतिसंवेदनशील परीक्षा केंद्रों को ऑनलाइन किए जाने की योजना पर मंथन चल रही है। हाईस्कूल व इंटर की बोर्ड परीक्षा सात फरवरी से होना है। इन परीक्षाओं के दौरान किसी प्रकार की अव्यवस्था न हो और नकल विहीन परीक्षा संपन्न हो। इसके लिए अधिकारी लगातार मंथन कर रहे है।

जिले में 78 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इन केंद्रों में नकल न हो। इसके लिए स्कूल के हर कमरों में सीसीटीवी कैमरे व वायस रिकार्डर लगाए गए हैं। परीक्षा के दौरान इन कैमरों को लगातार चालू रखा जाएगा। इसके साथ ही वायर रिकार्डर लगाए जाने से बोल कर परीक्षा कराने जैसी संभावना लगभग खत्म सी हो जाएगी। नकल रोकने के पुख्ता इंतजाम के कक्ष निरीक्षक समेत सेक्टर व जोनल मजिस्ट्रेटों को लगाया जाएगा। जो परीक्षा के दौरान एक-एक गतिविधि पर नजर बनाए रहेंगे। इसके साथ ही शासन इस बात पर भी मंथन कर रहा है कि हर संवेदनशील व अतिसंवेदनशील में सीसीटीवी के साथ ही इन फुटेज को लगातार ऑनलाइन किया जाए। जिससे अधिकारी कहीं से भी इस पर निगरानी कर सके। जिले के सात संवेदानशील व 14 अतिसंवेदनशील परीक्षा केंद्र इस दायरे में आ सकते हैं। कहते हैं डीआइओएस

जिला विद्यालय निरीक्षक सत्येंद्र कुमार ¨सह ने बताया कि अभी तो इस तरह का कोई स्पष्ट निर्देश नहीं मिला है, लेकिन इस योजना पर शासन स्तर पर मंथन चल रहा है। नकल पर लगाम लगाने के लिए यह एक अच्छी पहल होगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस