कौशांबी । तीन दिनों से जिले में हो रही बारिश से जिला मुख्यालय के सरकारी कार्यालयों के परिसर व कस्बे की गलियों पानी-पानी हो गई हैं। यही नहीं तेज बारिश से गांव के लोग भी मुश्किल में हैं। जगह- जगह दूषित जल भराव की वजह से कस्बों व गांवों में संक्रामक बीमारी फैलने की आशंका बनी हुई है।

शनिवार की शाम से रुक-रुक कर बारिश हो रही है। इससे जिले की नगर पंचायतों व गांवों में जल भराव की समस्या हो गई है। जिला मुख्यालय स्थित मंझनपुर से समदा को जाने वाला नाला चोक होने से मुख्यालय के आधा दर्जन अधिकारियों के कार्यालय परिसर में पानी भरा हुआ है। इसमें सीएओ कार्यालय मंझनपुर थाना, विकास भवन, कलेक्ट्रेट, जिला अस्पताल आदि स्थान शामिल हैं। रविवार को दोपहर तीन बजे से बारिश शुरू हो गई तो देर शाम तक चली। इससे लोगों को आने-आने में भी परेशानियों का सामना करना पड़ा है। कुछ लोग तो बाइक लेकर बारिश में ही सफर किया।

नाले की क्यों नहीं कराई जा रही सफाई

जिला मुख्यालय स्थित सरकारी कार्यालय व कस्बे का पानी निकालने के लिए मंझनपुर से समदा तक नाले का निर्माण कराया गया। इन दिनों ये नाला चोक है। इसकी वजह से सरकारी कार्यालयों व नगर पंचायत के बस्ती का पानी नहीं निकल पा रहा है। पानी न निकलने की वजह से सरकारी कर्मचारियों ओर कस्बे के लोगों को काफी फजीहत का सामना करना पड़ रहा है। शिकायत के बाद भी नगर पंचायत प्रशासन इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है।

सूख रहे धान में आई हरियाली

काफी दिनों से बारिश नहीं हुई थी। पानी के अभाव में 20 फीसद धान की सफल सूखने की कगार में पहुंच गई थी। इसको लेकर किसान काफी परेशान थे। इन दिनों हो रही बारिश के पानी धान के खेतों में फैल गया है और सूखी हुई धान की फसल में हरियाली लौट आई है, जिसकी वजह से किसान काफी खुश हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस