यमुना घाटों पर हुए अवैध खनन की जांच करने आई सीबीआइ टीम शुक्रवार के सिहोरी स्थित टोल प्लाजा पहुंची। बताया जा रहा है कि टीम के सदस्यों ने टोल प्लाजा के कर्मचारियों से पूछताछ की। इस दौरान टीम ने चार वर्ष पूर्व पुल से निकलने वाले वाहनों का ब्योरा लिया है।

जनपद के 14 यमुना घाटों में वर्ष 2012 से 16 के बीच हुए अवैध खनन की जांच करने के लिए सीबीआइ टीम ने सोमवार से डेरा डाला है। मंगलवार से बालू के अवैध खनन की जांच टीम के दो सदस्य कर रहे हैं। आरोप है कि सपा शासनकाल में साठगांठ कर सिडिकेट ने जिले के 14 यमुना घाटों पर अवैध तरीके से बालू का खनन कराकर करोड़ों कमाया था। हाईकोर्ट के आदेश पर सीबीआइ बालू के अवैध खनन की जांच कर रही है। जांच के लिए आए टीम के सदस्यों ने शुक्रवार को कोखराज थाना क्षेत्र के टोल प्लाजा पहुंचकर वर्ष 2012 से 16 के बीच प्लाजा से पास किए गए ओवरलोड वाहनों की जानकारी ली। बताया जा रही है कि टीम के सदस्यों ने कर्मचारियों को अलग-अलग बुलाकर पूछताछ की है। अभिलेखों के अनुसार, वर्ष 2012 से 2016 के बीच प्रतिदिन टोल प्लाजा से 100 से अधिक ओवरलोड वाहन पास किए गए हैं। टीम के सदस्य ओवरलोडिंग के बिदु को भी जांच में शामिल कर रहे हैं। सात फरवरी तक टीम कौशांबी में रहकर बालू के अवैध खनन की जांच करेगी। टीम के डेरा डालने से बालू कारोबारियों में खलबली है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस