Move to Jagran APP

कौशांबी में कई जगह विरोध के बीच डाले गए 52.60 फीसद वोट, EVM में हुआ प्रत्याशियों का भाग्य

लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में सोमवार को कौशांबी संसदीय सीट पर मतदान हुआ। यहां कुल 52.60 फीसद वोट डाले गए। इसी के साथ चुनाव मैदान में उतरे 10 उम्मीदवारों के भाग्य ईवीएम में कैद हो गए। मतदान समाप्त होने के बाद ईवीएम को कड़ी सुरक्षा के बीच स्ट्रांग रूम में रखवा दिया गया। वर्ष 2019 के आम चुनाव में कौशांबी सुरक्षित सीट पर कुल 54.87 प्रतिशत वोट पड़ा था।

By raj k. srivastava Edited By: Abhishek Pandey Tue, 21 May 2024 09:31 AM (IST)
कौशांबी में कई जगह विरोध के बीच डाले गए 52.60 फीसद वोट, EVM में हुआ प्रत्याशियों का भाग्य

जागरण संवाददाता, कौशांबी। लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में सोमवार को कौशांबी संसदीय सीट पर मतदान हुआ। यहां कुल 52.60 फीसद वोट डाले गए। इसी के साथ चुनाव मैदान में उतरे 10 उम्मीदवारों के भाग्य ईवीएम में कैद हो गए। मतदान समाप्त होने के बाद ईवीएम को कड़ी सुरक्षा के बीच स्ट्रांग रूम में रखवा दिया गया।

वर्ष 2019 के आम चुनाव में कौशांबी सुरक्षित सीट पर कुल 54.87 प्रतिशत वोट पड़ा था। उसकी तुलना में इस बार 2.27 प्रतिशत वोट कम पड़े हैं, इसकी वजह भीषण गर्मी सहित दूसरे कारण बताए जा रहे हैं। सोमवार सुबह सात बजे एक साथ सभी मतदान केंद्रों पर वोटिंग शुरू हुई। इस लोकसभा सीट में पांच विधानसभा क्षेत्र आते हैं। इसमें तीन कौशांबी और दो प्रतापगढ़ के हैं।

सुबह के वक्त मतदाताओं का उत्साह काफी रहा और नौ बजे तक 12.5% मतदान हुआ। इसी रफ्तार से सुबह 11 बजे तक वोट पड़े, लेकिन सूरज के चढ़ने पर मतदान प्रतिशत कम हो गया। उधर, स्थानीय समस्याओं को लेकर हिसामपुर माढ़ो, धर्मपुर और भरवारी में कुछ लोगों ने मतदान का बहिष्कार किया, लेकिन अधिकारियों के समझाने पर वह मान गए। इसके बाद अपने-अपने बूथ पर पहुंचकर मताधिकार का प्रयोग किया।

ईवीएम में आई तकनीकी खराबी

मतदान के दौरान अटसरांय, कोसम इनाम आंबाकुंआ गांव, सड़वा विदांव, डेढ़ावल और कनैली में ईवीएम में तकनीकी खराबी आने के चलते मतदान प्रभावित हुआ। म्योहर में एक पीठासीन अधिकारी ने अपने भाई को पीठासीन अधिकारी बनाकर बैठा दिया, जिसे पकड़ लिया गया। जांच के बाद उसे छोड़ दिया गया।

हालांकि, जिले में कोई घटना नहीं हुई और शाम छह बजे तक शांतिपूर्ण तरीके से मतदान हुआ। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मतदान केंद्रों को भ्रमण व निरीक्षण करते रहे। रात आठ बजे के बाद स्ट्रांग रूम में ईवीएम रखवाने का सिलसिला शुरू हुआ जो आधी रात तक चला। वहीं, उम्मीदवारों का भाग्य ईवीएम में कैद हो गया है, जिसका फैसला अब चार जून को मतगणना के साथ होगा।

जिले में चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया। ईवीएम को स्ट्रांग रूम में कड़ी सुरक्षा के बीच रखवा दिया गया है। - राजेश कुमार राय, जिला निर्वाचन अधिकारी।

इसे भी पढ़ें: पूजा स्थल अधिनियम वहीं लागू जहां कोई विवाद नहीं, श्रीकृष्ण जन्मभूमि और शाही ईदगाह मामले में HC में बोला मंदिर पक्ष