संवाद सहयोगी, कासगंज: शुक्रवार को सुबह सूर्यदेव के निकलने से सर्दी से कुछ राहत महसूस की गई। लेकिन पुन: सूर्य के बादलों में छिप जाने से सर्द हवाओं ने मौसम में ठंडक बढ़ा दी। सारे दिन सूर्यदेव का बादलों के साथ लुकाछिपी का खेल चलता रहा।

सुबह कोहरा था। आठ बजे सूर्यदेव ने दर्शन दिए और धूप निकली तो छतें गुलजार हो गईं। छतों पर पहुंचकर लोगों ने धूप सेकी, लेकिन 10 बजे के बाद सूर्यदेव पुन: बादलों की कोख में जा छिपे और ठंडी हवा चली तो मौसम में फिर ठिठुरन बढ़ गई। दिन भर बादलों और सूर्यदेव के बीच लुकाछिपी का खेल चलता रहा। बीते कई दिनों से पड़ रही गलन भरी ठंड से तो कुछ राहत मिली है। ग्रामीण क्षेत्रों में लोग सुबह और शाम अलाव तापकर सर्दी से निजात पाने का प्रयास कर रहे हैं। शाम चार बजे के बाद बाहरी क्षेत्रों में आसमान पर कोहरा छाने लगा। जिससे वाहन चालकों को परेशानी हुई। शहर में भी शाम से अलाव जलने लगे। तापमान अधिकतम 18 एवं न्यूनतम छह डिग्री सेल्सियस रहा है।

--------------------

वैसे तो यह मौसम स्वास्थ्य के लिए बेहतर है, लेकिन एहतियात की भी आवश्यकता है। गरम कपड़ों को पहने रहें। दो पहिया वाहन चलाते समय कान अवश्य ढकें। जहां तक संभव हो गरम पानी का सेवन करें। - डा. अनुपम सिंह, फिजिशियन 1477 लोगों के लिए कोरोना सैंपल: जिले के स्वास्थ्य केंद्रों पर शुक्रवार को एंटीजन 874, आरटीपीसीआर 603 सहित 1477 लोगों सैंपल लिया गया। एंटीजन टेस्ट में कोई भी व्यक्ति पाजिटिव नहीं पाया गया है। जबकि आरटीपीसीआर सैंपल जांच के लिए लैब भेजे गए हैं। सीएमओ डा. अनिल कुमार ने कहा है कि लोग नियमों का पालन करते रहें। सावधानी अभी भी जरूरी है। घर से बाहर निकलते समय मास्क अवश्य पहनें। भीड़भाड़ में बिना मास्क लगाए न जाएं। बार-बार हाथ धोने की आदत बनाए रखें।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021