Move to Jagran APP

आधार कार्ड लेकर बैंक पहुंचे दो युवक, अधिकारी घर आए तो भौचक्का रह गया किसान; तुरंत एसएसपी से मिला, फिर…

दमनेश उपाध्याय के पास सप्ताह भर पहले इंडियन बैंक के अधिकारी पहुंचे। उन्होंने उनसे कहा कि आपने बैंक में किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) के लिए आवेदन किया है। उनकी यह बात सुनकर किसान दमनेश भौचक्के रह गए। उन्होंने बताया कि मैंने तो बैंक में ऋण के लिए आवेदन ही नहीं किया है। बैंक अधिकारियों ने जब उन्हें आधार कार्ड और पैन कार्ड दिखाए तो वह पूरी तरह से फर्जी थे।

By Jagran News Edited By: Shivam Yadav Mon, 27 May 2024 07:09 PM (IST)
कोतवाली में गिरफ्तार आरोपी : फोटो- जागरण

संवाद सूत्र, कासगंज। किसान के नाम से फर्जी आधार और पैन कार्ड बनाकर बैंक से किसान क्रेडिट कार्ड लेने के प्रयास में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। बैंक के अधिकारी किसान के पास जमीन का सत्यापन पहुंचे तो मामले का खुलासा हुआ। पुलिस को इसमें अन्य लोगों के भी शामिल होने की आशंका है। 

यह है मामला

थाना ढोलना क्षेत्र के गांव गढ़ी हाथी शाह निवासी दमनेश उपाध्याय के पास सप्ताह भर पहले इंडियन बैंक के अधिकारी पहुंचे। उन्होंने उनसे कहा कि आपने बैंक में किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) के लिए आवेदन किया है। 

आपकी जमीन का सत्यापन करने आए हैं। उनकी यह बात सुनकर किसान दमनेश भौचक्के रह गए। उन्होंने बताया कि मैंने तो बैंक में ऋण के लिए आवेदन ही नहीं किया है। बैंक अधिकारियों ने जब उन्हें आधार कार्ड और पैन कार्ड दिखाए तो वह पूरी तरह से फर्जी थे। 

एसएसपी से की शिकायत

उन्होंने एसएसपी के यहां प्रार्थना पत्र दिया। आरोप लगाया कि कोई गिरोह उनकी जमीन पर फर्जी आधार कार्ड और पैन कार्ड बनाकर ऋण लेने की साजिश रच रहा है। मामले की जांच सीओ सदर अजीत सिंह को सौंपी गई। 

सीओ की जांच में पुष्पेन्द्र पुत्र चन्द्रपाल निवासी ग्राम कुमरुआ थाना सोरों और बाबूराम पुत्र बलवीर निवासी अतरौली थाना भोजपुर हापुड़ के नाम प्रकाश में आए। इसके बाद कोतवाली पुलिस ने 23 मई को मुकदमा कायम कर दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी को दबिश देना शुरू कर दिया। 

कोतवाली इंस्पेक्टर रामवकील सिंह और उनकी टीम ने दो दिन के प्रयास के बाद रविवार को आरोपी पुष्पेन्द्र और बाबूराम को गिरफ्तार कर लिया।

टेंपरिंग कर बनाए फर्जी आधार व पैन कार्ड 

आरोपियों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने बाबूराम के आधार कार्ड और पैन कार्ड को पहले टेम्परिंग किया। उसके बाद दमनेश उपाध्याय के नाम से फर्जी आधार और पैन कार्ड बनाए थे। फिर इंडियन बैंक में केसीसी के लिए आवेदन किया था।

फर्जीवाड़ा कर केसीसी ऋण लेने के प्रयास में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में यदि अन्य लोग भी शामिल होंगे तो वह विवेचना के दौरान सामने आ जाएंगे। सभी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

-राजेश कुमार भारती, अपर पुलिस अधीक्षक। 

एक सब्जी विक्रेता, दूसरा है मजदूर 

हैरत बात की तो यह है इतना बड़ा फर्जीवाड़ा करने वाले आरोपी कोई भी उच्च शिक्षित या फिर हाईप्रोफाइल सिस्टम से जुड़े नहीं हैं। आरोपी पुष्पेन्द्र नोएडा में सब्जी बेचता है, जबकि बाबूराम मजदूरी करता है।

यह भी पढ़ें: Lucknow Crime : नेशनल शूटर ने पिस्टल की बट से OLA DRIVER को पीटा, किडनैपिंग का प्रयास- VIDEO हो रहा वायरल