कासगंज, संवाद सहयोगी : पारस्परिक अंतरजनपदीय स्थानांतरण में जिले में आए शिक्षकों को अभी तक स्कूल आवंटन नहीं हुए हैं। शिक्षक स्कूल आवंटित होने का इंतजार देख रहे हैं। जिले में शिक्षकों की कमी के चलते दर्जनों विद्यालय एकल हैं।

मार्च में शासन ने पारस्परिक अंतरजनपदीय स्थानांतरण खोल दिए थे। इसके लिए तमाम शिक्षकों ने आवेदन किए। जिले से दर्जनों शिक्षक अन्य जनपदों के लिए चले गए। इस प्रक्रिया में मार्च के प्रथम सप्ताह में 45 शिक्षक जिले में आए। इन शिक्षकों को आए लगभग सात माह का समय पूरा हो चुका है। अभी तक किसी भी शिक्षक को स्कूल आवंटित नहीं किए गए हैं। स्कूल आवंटन के लिए शिक्षक बीएसए कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं। उन्हें विद्यालय आवंटित होने का इंतजार है। शिक्षकों का कहना है कि जिले में दर्जनों विद्यालय एकल हैं। यदि एकल विद्यालय ही पारस्परिक अंतरजनपदीय स्थानांतरण में आए शिक्षकों को कर दिए जाएं तो इन एकल विद्यालयों में शिक्षा बेहतर हो जाएगी। एक शिक्षक पर कई कक्षाओं का पड़ रहा भार भी कम होगा। शिक्षकों ने बीएसए से स्कूल आवंटित किए जाने की मांग की है। 121 नए शिक्षकों को भी स्कूल आवंटन का इंतजार

69 हजार शिक्षक भर्ती में जिले को हाल ही में 121 शिक्षक मिले हैं। इन शिक्षकों को भी अभी स्कूलों का आवंटन नहीं हुआ है। यह शिक्षक भी स्कूल आवंटन की राह देख रहे हैं। 45 पारस्परिक अंतरजनपदीय स्थानांतरण पर आए शिक्षकों के अलावा 121 नए शिक्षकों को भी स्कूल आवंटित नहीं हुए हैं। शासन स्तर से स्कूलों का आवंटन होना तय है। सूचना दी गई है। प्रक्रिया चल रही है। शीघ्र ही स्कूलों का आवंटन हो जाएगा।

- राजीव कुमार, बीएसए

Edited By: Jagran