जेएनएन, कासगंज : गंजडुंडवारा के स्कूल में तो गुरुवार को बिजली का तार टूटने से हादसा बच गया, लेकिन जिले के कई स्कूलों में नौनिहालों पर बिजली का खतरा अब मंडरा रहा है। स्कूलों के ऊपर से हाईटेंशन लाइन गुजर रही है तो कई जगह ट्रांसफारमर और तार खतरे का सबब बन रहे हैं। विभागीय अधिकारियों को कई बार इस संबंध में बताने के बाद भी समस्या का निदान नहीं किया है।

जिले के कई स्कूलों के ऊपर से विद्युत लाइन गुजर रही है। गंजडुंडवारा में ही गांव महमूदपुर में पूर्व माध्यमिक स्कूल परिसर के ऊपर से 1100 केवीए की लाइन जा रही है। इस परिसर में ही प्राथमिक स्कूल भी है। दोनों स्कूलों में मध्यावकाश और खेल के वक्त जब बच्चे स्कूल परिसर में खेलते हैं तो हर वक्त हादसे का डर रहता है। शिक्षकों को बच्चों की चिता सताती रहती है, ऐसे में वह हर वक्त बच्चों पर नजर रखते हैं। यही स्थिति दरियावगंज स्कूल की है। इस स्कूल के निकट से भी 11 हजार केवीए की लाइन गुजर रही है।

स्कूल में ही हाईटेंशन लाइन के पोल

सिढ़पुरा क्षेत्र का भी हाल जुदा नहीं है। प्राथमिक स्कूल रजमऊ के परिसर में विद्युत पोल लगाए गए हैं। 33,000 की लाइन भी यहीं से खिंची हुई है, जो शौचालय के ऊपर से जा रही है। वहीं कई अन्य स्कूलों के निकट भी विद्युत तार खतरे का सबब बन सकते हैं। एक नजर में

-55 स्कूलों के ऊपर से जिले में गुजर रही है हाईटेंशन लाइन। विभाग द्वारा स्कूलों का सर्वे कराया गया है। हाईटेंशन की लाइन जिले के 55 स्कूलों के ऊपर से गुजर रही है। यह सूची बेसिक शिक्षा सचिव को भी भेज दी है। विद्युत विभाग से भी तारों को हटाने के लिए कहा है।

-अंजली अग्रवाल, जिला बेसिक शिक्षाधिकारी, कासगंज।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप