जासं, कासगंज: यमुना पुत्रों की सेवा से महक रही गंगा रविवार को धर्म की सरिता बहाती दिखी। कलश में सिमटी गंगा श्रद्धालु महिलाओं के सिरों पर सजकर पुलकित दिखी। भजन और लोकगीत के साथ कलश में सिमटी गंगा अथाह जलराशि में विलीन हो गई।

रविवार को सोरों के लहरा घाट पर दो दिन से आयोजित श्री गंगा भक्त ट्रस्ट समिति मथुरा के धाíमक कार्यक्रम के दूसरे दिन 71 पीत वस्त्रधारी महिलाएं सिर पर कलश धारण कर निकली तो गंगा भी भाव से हिलोरे लेने लगी। मंगलगीतों के साथ महिला श्रद्धालु गंगा किनारे पहुंची, जहां कलश को किनारों पर रखकर गंगा मां की सेवा में फूल-फल और दूध अíपत किया गया। इस दौरान का नजारा पूरी तरह धर्म से ओतप्रोत दिखा तो श्रद्धा के भाव बरसते रहे। समिति के अध्यक्ष शिवकुमार अग्रवाल एडवोकेट ने महिलाओं का स्वागत किया।

मथुरा वालों की धर्मशाला में आयोजित इस दो दिवसीय धाíमक कार्यक्रम के समापन पर सैकड़ों श्रद्धालुओं को प्रसाद वितरित किया गया। शनिवार को गंगा महारानी के अलौकिक छप्पन भोग के दर्शन के लिए एसपी अशोक कुमार, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट भरत ¨सह यादव, सीओ सिटी गवेंद्र पाल गौतम आदि अधिकारियों के अलावा स्थानीय कासगंज के श्रद्धालु भी पहुंचे।

Posted By: Jagran