कासगंज,जागरण संवाददाता। गंगा में बढ़ते पानी के दबाव से बुधवार रात में मिहोला गांव पर बनाया गया बंधा (बांध से छोटा) टूट गया। इससे गांव की तरफ तेज रफ्तार से बहे पानी ने ग्रामीणों की नींद उड़ा दी। सुबह प्रशासन को खबर मिली तो एसडीएम-सीओ के साथ तहसील की टीम मौके पर पहुंची। ग्रामीणों के सहयोग से फिर से बंधा बनाने का काम शुरू हो गया। डीएम व एडीएम भी मौके पर पहुंचे। देर शाम तक यहां काम जारी था।

गंगा का जलस्तर बुधवार रात को बढ़कर 168.8 मीटर पर पहुंच गया जिससे पानी का दबाव बढ़ गया। पटियाली में गंगा किनारे स्थित गांव मिहोला में पानी रोकने के लिए बनाया गया बंधा रात दस बजे टूट गया। सड़क किनारे स्थित खेत में दो से तीन फुट तक पानी भर गया। खबर मिलने पर गुरुवार सुबह एसडीएम शिवकुमार तथा सीओ पटियाली गवेंद्रपाल गौतम भी मौके पर पहुंच गए। ग्रामीणों को लेकर अधिकारी बीच पानी से ही गुजरते हुए टूटे हुए बंधा तक पहुंचे। बोरी मंगाकर मिट्टी से पहले पानी को बंधा से दूर ही रोकते हुए बहाव की दिशा बदलने का प्रयास किया। इधर बंधा पर बल्लियां गाड़ कर यहां भी मिट्टी से भरी बोरी डलवानी शुरू कर दी। डीएम सीपी सिंह एवं एडीएम योगेंद्र कुमार ने भी यहां पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया। नाव से बंधा तक पहुंचे। एसडीएम एवं सीओ को निर्देश दिए। ग्रामीणों से भी बात कर आश्वासन दिया कि स्थिति को जल्द ही नियंत्रण में कर लिया जाएगा।

स्टीमर नहीं चला, चप्पू की नाव चलवाई

बंधा एवं गांव के बीच काफी दूरी में पानी भरा हुआ था। पानी में होकर गुजरना भी मुश्किल पड़ रहा था। ऐसे में बल्लियां एवं अन्य सामान पहुंचाने के लिए चप्पू वाली नाव बुलाई गई। डीएम सीपी सिंह एवं एडीएम योगेंद्र कुमार भी इन्हीं नाव के सहारे बंधा तक पहुंचे। अफसरों से मेहनताना पाकर नाविक भी हुए खुश

भाड़े पर बुलाई गई नावों के नाविक सुबह से नाव चला रहे थे। बार-बार दर्जनों ग्रामीण नाव पर चढ़ जाते। इससे परेशानी भी होती। जब डीएम एवं एडीएम बंधा से वापस लौटे तो यहां पर एडीएम ने नाविक को बुलाकर नाश्ते के लिए 500 रुपये दिए। इस पर नाविक भी खुश हो गए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप