कासगंज, संवाद सहयोगी : बैराजों से छोडे जा रहे पानी से गंगा में जलस्तर बढ़ गया है। पटियाली क्षेत्र में लगभग दर्जनभर ग्रामों के खेतों में गंगा का पानी घुस गया है। इससे किसानों की चिता बढ़ गई है। सिचाई विभाग ने बाढ़ की संभावना से इन्कार किया है, लेकिन अभी और पानी बढ़ने आशंका व्यक्त की है।

पहाड़ों पर हो रही बारिश के बाद बैराजों से डिस्चार्ज किए पानी ने गंगा में जलस्तर बढ़ा दिया है। गंगा का बढ़ता पानी तटवर्ती ग्रामों के ग्रामीणों और किसानों की चिता बढ़ा रहा है। पटियाली क्षेत्र में लगभग दर्जनभर गांवों की फसली भूमि में गंगा का पानी घुस गया है। वहीं, नदी का जलस्तर अभी और बढ़ने की संभावना है। यदि यही हाल रहा तो गंगा का पानी आबादी की ओर रुख कर सकता है। ग्रामीण चितित है कि कहीं पानी आबादी में घुसकर तबाही न मचा दे। गुरुवार को गंगा के जलस्तर में 65 सेंटीमीटर की बढ़ोत्तरी हुई। सिचाई विभाग के अधिशासी अभियंता अरुण कुमार ने विभागीय टीम के साथ तटवर्ती ग्रामों एवं गंगा के बढ़ते जलस्तर का निरीक्षण किया है। बंधों से टकराया पानी

गंगा का पानी बढ़ते- बढ़ते नगला शंभू समसपुर के पास नरदौली बंधों से टकरा गया है। इससे यह स्पष्ट हो रहा है कि गंगा में मध्यम फ्लड के हालत बन चुके हैं। भले ही सिचाई विभाग बाढ़ की किसी भी संभावना से इन्कार कर रहा है, लेकिन यदि गंगा में बैराजों से पानी का डिस्चार्ज बढ़ा तो हालात बिगड़ सकते हैं। इन गांव के खेतों में पहुंचा गंगा का पानी

नगला शंभू, समसपुर, नरदौली, बरौना, बहोरा, नगला खंदारी, नगरिया, तरसी, कादरगंज, जगमई, अलोखर, असदगढ़, किला। नरौरा बैराज से पानी का डिस्चार्ज निरंतर बढ़ रहा है। शुक्रवार दोपहर तक पानी और बढ़ेगा। इसके बाद संभावना है कि पानी घटने लगेगा। मध्यम फ्लड के हालत हैं। बाढ़ की कोई आशंका नहीं है।

- पंजाबी शर्मा, सहायक जिला बाढ़ प्रभारी बैराजों से पानी का डिस्चार्ज

- हरिद्वार बैराज 104028 क्यूसेक

- बिजनौर बैराज 127388 क्यूसेक

- नरौरा बैराज 221029 क्यूसेक कछला नदी पर पानी का गेज 163.85 मीटर

Edited By: Jagran