पटियाली, कासगंज, संसू। पटियाली के मुहल्ला चौक में शुक्रवार शाम से शनिवार दोपहर तक बुखार के कारण सगे भाई-बहन सहित तीन बच्चों की मौत हो गई। लोग दहशत में हैं। एसडीएम एवं सीएचसी अधीक्षक भी मौके पर पहुंचे। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी बच्चों की चिकित्सकीय रिपोर्ट के आधार पर जांच कर रहे हैं।

मुहल्ला चौक में रहने वाले अनिल की सात वर्षीय बेटी कीíत की कुछ दिनों से तबियत खराब थी। गले में भी जकड़न थी। स्वजन ने बीते दिनों सीएचसी पर दिखाया तो डॉक्टर ने कासगंज बाल रोग विशेषज्ञ के लिए रेफर कर दिया। कासगंज में उपचार चल रहा था। शुक्रवार शाम को कीíत की मौत हो गई। स्वजन शव को लेकर घर पहुंचे। सुबह अंतिम संस्कार के लिए बूढ़ी गंगा पर गए थे। सुबह 10 बजे अनिल के छोटे बेटे दो वर्षीय निरजेश की भी मौत हो गई। उस समय अनिल घाट पर ही थे, तभी उनको सूचना मिली। निरजेश को एक दिन पहले ही बुखार आया था। दोपहर एक बजे इसी मुहल्ले की अन्य गली में रहने वाले रामू के दो माह के बेटे मयंक की भी मौत हो गई। मंयक की डेढ़ माह से तबीयत खराब थी। बुखार बना हुआ था। 24 घंटे के अंदर ही मुहल्ले के तीन बच्चों की मौत की से दहशत फैल गई।

एसडीएम शिवकुमार भी मौके पर पहुंचे तथा यहां पर परिजनों से जानकारी ली। उनके निर्देश पर चिकित्सा अधीक्षक डॉ.कुलदीप गंगवार भी टीम के साथ मौके पर पहुंचे। डॉ.गंगवार का कहना है कि वायरल से गले में जकड़न, नाक बहने एवं बुखार की स्थिति के लक्षण होते हैं, अभी जांच रिपोर्ट देखी जा रही है। उसके बाद कुछ कहना संभव होगा। तीन बच्चों की मौत की जानकारी मिली है। एक बच्ची की पैथोलॉजी से रिपोर्ट मंगाई गई है। दो माह के मयंक की तबियत डेढ़ माह से खराब थी, उसने न्यूमनाइटिस था, अभी तक इन बच्चों में डेंगू जैसे लक्षण मिलने की रिपोर्ट नहीं मिली है। इसके बाद भी डॉक्टर को आदेश दिए हैं कि वह कैंप लगाकर मुहल्ले में जांच करें।

-डॉ. प्रतिमा श्रीवास्तव,

मुख्य चिकित्साधिकारी,

कासगंज

आसपास के घरों में जांच करने पहुंचे चिकित्सक:

मुहल्ला चौक में तीन बच्चों की मौत के बाद में स्वास्थ्य महकमा भी अलर्ट हो गया। सीएमओ लखनऊ से पल-पल की जानकारी ले रही थीं। दोपहर बाद में एक टीम को भेज कर मुहल्ले में दो दर्जन घरों में स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया।

जिले में डेंगू को लेकर पहले से ही स्वास्थ्य महकमा अलर्ट है। ऐसे में तीन बच्चों की मौत की जानकारी मिलने पर सीएमओ के निर्देश पर चिकित्सकों की टीम मुहल्ले में भेजी। कीíत एवं मयंक के घर के आसपास के दो दर्जन घरों में पहुंच कर लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। सीएमओ का कहना है कि रविवार को मुहल्ले में चिकित्सकों की टीम भेज कैंप लगाया जाएगा। एक बच्ची के बुखार से इतने दिन से पीड़ित होने तथा सीएचसी जाने के बाद भी विभाग को सूचित न करने के संबंध में भी एएनएम एवं आशा से जवाब तलब करेंगे। अस्पताल में भर्ती हुए बुखार के तीन मरीज : जिले में बुखार का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। शनिवार को भी भैंसोरा खुर्द से दो मरीजों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बेबी पत्नी महाराज सिंह (40) एवं कविता पत्नी सतीश चंद्र (25) को जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। वहीं अमांपुर निवासी 19 वर्षीय विकास पुत्र भगवान सिंह को भी अस्पताल में भर्ती कराया है। वह भी बुखार से पीड़ित है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप