कासगंज, संवाद सहयोगी : जिला कारागार में तीन बंदियों के कोरोना संक्रमित मिलने के बाद सतर्कता बढ़ा दी गई है। बंदियों की कोरोना जांच की जा रही है। नए बंदियों को जांच के बाद ही अन्य बंदियों के साथ बैरक में रखा जा रहा है। शनिवार को 37 बंदियों की कोरोना जांच की गई कोई पाजिटिव नहीं मिला।

शुक्रवार को जिला जेल के तीन बंदी कोरोना पाजिटिव पाए गए। बंदियों के कोरोना पाजिटिव मिलने से जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया। बंदियों को जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। संक्रमण को लेकर जेल प्रशासन और सतर्क हो गया है। जेल में सतर्कता बढ़ाई गई है। प्रतिदिन पहुंचने वाले नए बंदियों को अस्थाई बैरक में रखा जा रहा है। कोरोना जांच के बाद ही उन्हें अन्य बंदियों के साथ बैरक में रखा जा रहा है। 95 फीसद से अधिक बंदियों के कोरोना का टीका लगाया जा चुका है। सौ फीसद बंदियों का टीकाकरण कराए जाने के लिए जिला प्रशासन लगा है। बंदियों की कोरोना जांच भी कराई जा रही है। सोरों स्वास्थ्य विभाग की टीम जेल पहुंचकर बंदियों की कोरोना जांच कर रही है। शनिवार को भी बंदियों की कोरोना जांच कराई। 37 एंटीजन जांच में कोई भी पाजिटिव नहीं मिला है। आंकड़ों की नजर में

- जेल में बंदियों की क्षमता : 1050

- जेल में निरुद्ध बंदियों की संख्या : 1075

- महिला बंदी : 54

- नाबालिग बंदी : 19

- महिलाओं के साथ रह रहे बच्चे : 09 जेल में अधिकांश बंदियों के टीके लग चुके हैं। कुछ एक दो बंदी ही बचे हैं। जिन्हें एक दो दिन में कोरोना का टीका लगवा दिया जाएगा। पूरी तरह एहतियात बरती जा रही है। प्रतिदिन पहुंचने वाले बंदी जांच के बाद बैरक में पहुंचाए जा रहे हैं। शनिवार को हुई टेस्टिग में कोई पाजिटिव नहीं मिला है।

- एएन सिंह, जेलर

Edited By: Jagran