संवाद सूत्र, सरवनखेड़ा : गजनेर के शंकरपुर में कुएं में जहरीली गैस से जान गंवाने वाले दोनों युवकों का रविवार को नम आंखों से गांव के बाहर अंतिम संस्कार किया गया। घटना से पूरा गांव गम में डूबा हे। वहीं कुएं के ऊपर सीढ़ी व पेड़ की डाल, झाड़ी रखकर बंद कर दिया गया है जिससे घटना की पुनरावृत्ति न होने पाए।

शंकरपुर गांव निवासी सुरेंद्र का बकरा शनिवार को कुएं में गिर गया था। उसे बचाने को गांव के युवक बृजेश व बलबीर नीचे उतरे थे जहां जहरीली गैस होने के कारण बेहोश होकर गिर गए थे। दमकल कर्मियों ने मशक्कत कर उन्हें निकाला था और जिला अस्पताल लेकर गए थे। जहां पर डाक्टर ने मृत घोषित कर दिया था। इससे दोनों परिवार में कोहराम मच गया था। रविवार को दोनों के शव गांव पहुंचे तो रोना पीटना मच गया। परिवार के साथ ही हर किसी की आंखें नम हो गई। गांव के बाहर ही शव का अंतिम संस्कार किया गया। बलवीर सिंह के शव को उनके बड़े भाई कुंवर सिंह व बृजेश के शव को उनके बड़े भाई कुलदीप ने मुखाग्नि दी। गांव के अलावा आसपास के लोगों की भीड़ जमा रही। सभी का कहना था कि ऐसी दुखद घटना आज तक गांव में कभी नहीं हुई है।

किसान के घर से नकदी और जेवरात चोरी

संवाद सूत्र, मूसानगर : मूसानगर थानाक्षेत्र के ग्राम ठाकुरपुरवा गांव में किसान नरेंद्र के घर से चोरों ने करीब पांच लाख का माल पार कर दिया। पुलिस ने पहुंचकर छानबीन की।

नरेंद्र पत्नी शांति, पुत्र हर्षित व बेटी साक्षी संग शनिवार रात छत पर सो रहे थे। देररात दीवार फांदकर घुसे चोर ने जीने का दरवाजा खोला और अंदर दाखिल हो गया। इसके बाद अलमारी का लाकर तोड़कर करीब पांच लाख के जेवरात व पांच हजार की नकदी चोरी कर ली और फरार हो गया। रविवार तड़के चार बजे करीब नरेंद्र की नींद खुली और नीचे आए तो कमरे का नजारा देखकर होश उड़ गए। इसके बाद उन्होंने शोर मचाया तो आसपास के लोग जागे। पड़ोस के गोविद यादव भी जागे और उन्होंने बताया कि वह भी छत पर सो रहे थे चारपाई पर रखा उनका फोन चोर लेकर चले गए। पुलिस पहुंची और पूछताछ कर छानबीन की। मूसानगर थानाध्यक्ष दीपक सिंह ने बताया कि जांच की जा रही है।

Edited By: Jagran