जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : विद्युत सबस्टेशन में अब प्रभारी जेई के तौर पर टीजी-2 की तैनाती हो सकेगी। पॉवर कारपोरेशन उप्र ने पुराना फैसला बदल दिया है।अवर अभियंताओं की कमी को देखते हुए ये निर्णय लिया गया है। हालांकि प्रभारी जेई के तौर पर टीजी-2 की तैनाती केवल एक वर्ष के लिए ही होगी।

टीजी-2 (टेक्निकल ग्रेड-2) को विद्युत सबस्टेशन का प्रभार दिए जाने का जेई संघ लगातार विरोध करता रहा है। इसको लेकर पिछले दिनों पॉवर कारपोरेशन ने टीजी-2 को प्रभारी जेई बनाने पर रोक लगा दी थी। हालांकि पूर्व में प्रभारी बनाए गए कुछ टीजी-2 सबस्टेशन का काम देख रहे हैं। इधर विद्युत तंत्र सुधार को लेकर नये सबस्टेशन स्थापित किए गए हैं। ऐसे में सबस्टेशन संचालन के लिए जरूरत के अनुसार अवर अभियंता की कमी है। हालात ये हैं कि एक-एक अवर अभियंता को कई-कई सबस्टेशन का चार्ज देखना पड़ रहा है। इसका असर निर्बाध बिजली आपूर्ति पर पड़ता है। सबस्टेशन संचालन की आ रही समस्याओं व अवर अभियंताओं की कमी को देखते हुए पॉवर कारपोरेशन ने पुराने निर्णय में बदलाव किया है। तय किया गया है कि वरिष्ठता, श्रेष्ठता व उपयोगिता के अधार पर टीजी-2 प्रभारी जेई बनाए जाएंगे। टीजी-2 को गृह जनपद में चार्ज नहीं मिलेगा। तैनाती केवल एक वर्ष अवधि के लिए होगी। पॉवर कारपोरेशन के प्रबंध निदेशक ने बदली व्यवस्था लागू करने के लिए डिस्काम (आगरा) को निर्देश दिए थे। इस पर डिस्काम (आगरा) के निदेशक प्रशसन राकेश कुमार ने मुख्य अभियंता वितरण कानपुर को कार्रवाई करने को कहा है।

इंसेट)

टीजी-2 को सबस्टेशन का प्रभार दिए जाने के निर्देश मिले हैं। इसके लिए जिले में दोहरे प्रभार वाले या फिर नये शुरू हुए सबस्टेशन पर टीजी-2 को प्रभार देने के प्रस्ताव अधिशासी अभियंताओं से मांगे गए हैं।

-श्रीश कुमार श्रीवास्तव, अधीक्षण अभियंता विद्युत

इंसेट)

अनुमोदन बिना तैनाती नहीं

टीजी-2 को विद्युत सबस्टेशन का प्रभारी बनाए जाने के लिए बाकायदा डिस्काम (आगरा) निदेशक का अनुमोदन लेना होगा। बिना अनुमोदन टीजी-2 के चार्ज पर पाए जाने पर संबंधित खंड व मंडलीय अभियंता पर कार्रवाई की जाएगी। इसका अल्टीमेटम डिस्काम (आगरा)निदेशक प्रशासन ने मुख्य अभियंता विद्युत को दिया है। इसके साथ ही सबस्टेशन में टीजी-2 को प्रभार देने का प्रस्ताव मुख्य क्षेत्रीय अभियंता के माध्यम से मांगे गए हैं।

Posted By: Jagran