जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : संक्रमण की रोकथाम के लिए गाइडलाइन का पालन करना बेहद जरूरी है, लेकिन लोग इसे गंभीरता से समझ नहीं रहे हैं। यही कारण है कि गांवों में कोरोना संक्रमण बढ़ा है। इनमें भी अमरौधा, शिवली जैसे क्षेत्र प्रमुख हैं जहां मरीजों की संख्या अधिक है। मौत कम होने के साथ ही स्वस्थ भी लोग हो रहे हैं, लेकिन गांव में संक्रमण को लेकर ध्यान देना होगा।

कोरोना क‌र्फ्यू से संक्रमण पर कुछ हद तक रोक लगी है और कोरोना मरीज कम संख्या में आ रहे हैं, लेकिन गांव में निगरानी समितियों व घर घर सर्वे के अलावा सरकारी अस्पतालों में जांच में मरीज निकलकर आ रहे हैं। अगर लोग सुरक्षा नियमों का पालन नहीं करेंगे तो गांव में संक्रमण फैलने पर स्थिति खतरनाक हो सकती है। गांव में अभी तक 2571 मरीज मिल चुके हैं, जिनमें अमरौधा व शिवली क्षेत्र में ज्यादातर मरीज मिले हैं। मृत्यु दर एक फीसद से भी बहुत कम है लेकिन गांव का संक्रमण दर कुछ सप्ताह से बढ़ा है। इनमें कई श्रमिक भी मिले हैं जो बाहर से यहां वापस घर आए हैं। निगरानी समितियों व सर्वे टीम ने घर घर पाया कि लोग कोरोना से मिलते जुलते लक्षण से भी ग्रसित हैं जिनमें बुखार में सांस लेने में समस्या प्रमुख है। सीएमओ डॉ. राजेश कटियार ने बताया कि मरीज स्वस्थ काफी अच्छी संख्या में हो रहे हैं, लेकिन ग्रामीण क्षेत्र के लोग नियमों का पालन करें तो परिणाम और बेहतर होगा। संक्रमण से बचना है तो सुरक्षा व नियमों का पालन लोगों को करना होगा।