जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : जिले में सोमवार को सभी को परिणामों का इंतजार था खासकर जिला पंचायत सदस्य का, लेकिन धीमी मतगणना से लेकर कई जगह विवादित मामला होने से रात तक कई सीट पर विजयी प्रत्याशी घोषित नहीं हो सका। पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष राम सिंह के साथ ही सांसद देवेंद्र सिंह भोले की बहू नीरज रानी ने अपनी अपनी सीट पर जीत हासिल की।

रविवार देररात से लेकर मतगणना सोमवार रात तक जारी रही। इतनी देरी होने से लोग भी परेशान हो गए और परिणाम के इंतजार में थक गए। प्रधान पदों के परिणाम तो आ गए लेकिन जिला पंचायत सदस्य को लेकर मामला लटका रहा। कई प्रत्याशी विजयी तो हुए, लेकिन जिला पंचायत में प्रमाण पत्र देने में घंटों इंतजार कराया गया। इससे सभी झुंझला गए। सिठमरा से निर्दलीय प्रत्याशी पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष राम सिंह यादव विजयी रहे। उन्होंने भाजपा समर्थित डॉ. विवेक द्विवेदी को 7537 मतों के भारी अंतर से हराया। विवेक द्विवेदी को 5130 मत ही मिल सके। वहीं परजनी से सांसद की बहू नीरज रानी ने जीत हासिल की। इसी तरह बिरहुन से सपा समर्थित युवा प्रत्याशी अंकित यादव ने जीत हासिल की। बारा से भाजपा समर्थित कृष्णा गौतम, कठेठी से भाजपा समर्थित विशंभर सोनकर, संदलपुर प्रथम से मंजू सिंह, रंजीतपुर से सपा समर्थित उमेश दुबे, मुंगीसापुर से सपा समर्थित अजय यादव, राजपुर प्रथम से भाजपा समर्थित रानू परवेश कटियार जीते। बरौर से बसपा समर्थित संजय सचान ने 5854 मतों के भारी अंतर से अपने प्रतिद्वंद्वी को हराया। नोनारी बुजुर्ग से बसपा समर्थित महबूब विजयी रहे। भजपुरा सीट से निर्दलीय अंजली सिंह ने बाजी मारी, उमरन सीट से राजकुमार यादव ने जीत दर्ज की। औंगी सीट से सतेंद्र पाल तो मवैया से नेहा देवी ने जीत दर्ज की। देररात तक परिणाम आते रहे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021