जागरण संवाददाता, कानपुर देहात : बारिश व ओला आसमान से आफत बनकर किसानों की फसलों पर बरसे, लेकिन किसानों के जख्मों पर मरहम लगाने को कृषि व राजस्व विभाग ने तुरंत सक्रियता दिखाई। जनपद में जिन किसानों की फसलें बर्बाद हुई उन्हें क्षतिपूर्ति दी जा रही है, बाकी जिनका नुकसान हुआ है और वह सर्वे से रह गए तो विभाग से संपर्क कर सकते है।

उपनिदेशक कृषि विनोद यादव कहते है कि बारिश व ओला के बाद विभाग तुरंत सक्रिय हुआ। फसल बीमा योजना के अंतर्गत भी किसान जिनकी फसल क्षति हुई उनका बीमा कंपनी के जरिए सर्वे कराया जा रहा है। टोल फ्री नंबर भी जारी किया गया जिस पर किसानों ने शिकायत की। राजस्व विभाग के कर्मचारियों संग मिलकर रसूलाबाद, सिकंदरा, शिवली क्षेत्र में किसानों को चिह्नित किया गया। कोई किसान सर्वे से छूट गया हो के सवाल पर वह कहते है कि अगर कोई किसान सर्वे से रह गया तो वह टोल फ्री नंबर 1800120909090 पर भी अपनी बात दर्ज करा सकता है। इसके अलावा विभाग से भी संपर्क कर सकता है। एडीएम वित्त एवं राजस्व साहब लाल ने बताया कि जनपद में 4637 किसानों की 33 प्रतिशत क्षति के हिसाब से 1231.9 हेक्टेयर फसल क्षति होने का राजस्व विभाग ने आंकड़ा दिया है। करीब 1.74 करोड़ रुपये किसानों को मुआवजा राशि उनके खातों में भेजी जाएगी। रसूलाबाद क्षेत्र में तबाह गेहूं की फसल के 23 किसानों को 3.25 लाख मुआवजा राशि दी जा चुकी है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस