कानपुर देहात, हमारे प्रतिनिधि : रूरा स्टेशन पर मुरी व ऊंचाहार एक्सप्रेस का ठहराव निरस्त करने की रेल प्रशासन द्वारा शुरू की गई कवायद से यात्रियों में असंतोष है। नाराज लोगों ने ठहराव खत्म करने की स्थिति में आंदोलन की चेतावनी दी है।

रूरा स्टेशन पर यात्री सुविधाओं के साथ एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव की मांग को लेकर चलाए आंदोलनों के बाद मुरी व ऊंचाहार एक्सप्रेस का ठहराव दिया गया था। छह माह पहले लोगों की मांग पर गोमती व लखनऊ आगरा इंटरसिटी एक्सप्रेस का भी ठहराव शुरू हो गया। हाल ही में रेलवे अफसरों ने ऊंचाहार व मुरी एक्सप्रेस को नाट जस्टीफाइड बताकर ठहराव को खत्म करने की कवायद शुरू की है। उत्तर मध्य रेलवे के डिवीजनल कामर्शियल मैनेजर की ओर से रूरा में इन ट्रेनों के साथ ही सरसौल में इलाहाबाद-कानपुर इंटरसिटी, शिकोहाबाद में गोमती एक्सप्रेस, ब्रह्मापुत्र एक्सप्रेस, लखनऊ-आगरा इंटरसिटी, टूंडला में गरीब रथ व लखनऊ दिल्ली शताब्दी एक्सप्रेस तथा दादरी में लिच्छवी एक्सप्रेस का ठहराव निरस्त करने के बाबत रेलवे सलाहकार समिति के सदस्यों व संबंधित स्टेशन मास्टरों से रिपोर्ट मांगी है। इसकी जानकारी होने के बाद स्थानीय यात्रियों में असंतोष है। सपा श्रम प्रकोष्ठ के महासचिव मोहन कुमार ने बताया कि रूरा स्टेशन को जिला स्तरीय स्टेशन बनाने की मांग को लेकर कई बार आंदोलन व प्रदर्शन के बाद ट्रेनों का ठहराव हुआ है। इस स्टेशन को जिला स्तरीय दर्जा, पार्सल व मालभाड़ा सेवा तथा यात्री सुविधाओं के विकास की मांग लंबित है। उन्होंने कहा कि यदि मुरी व ऊंचाहार का ठहराव निरस्त हुआ तो दैनिक यात्रियों के साथ आंदोलन करेंगे। रेल सलाहकार समिति के सदस्य वीरसेन यादव ने कहा कि किसी भी हाल में रूरा में ट्रेनों का ठहराव खत्म नहीं होने दिया जाएगा। इस बाबत वह अपना प्रस्ताव भिजवा रहे हैं और समिति की बैठक में भी विरोध दर्ज कराएंगे।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर