कन्नौज, जेएनएन। मंगलवार सुबह कासगंज में युवक का शव मिलने के बाद स्वजन ने ठठिया चौराहा पर हंगामा शुरू कर दिया। उन्होंने पुलिस की पिटाई से मौत होने का आरोप लगाया। पुलिस उन्हें कोतवाली ले आई और मामला कासगंज का बताते हुए टरका दिया। इसके बाद सभी कासगंज रवाना हो गए। सीओ दीपक दुबे ने बताया कि मामला संज्ञान में नहीं है। घटनास्थल से संबंधित थाना पुलिस कार्रवाई करेगी। अगर यहां स्वजन शिकायत करते हैं तो मदद की जाएगी।

इंदरगढ़ थाना क्षेत्र के रतनापुर सरैया गांव निवासी आशीष ने बताया कि 45 वर्षीय पिता गौतम हरियाणा के पानीपत में प्राइवेट नौकरी करते थे। शनिवार को उनके पिता पानीपत से घर आने के लिए चले थे। मंगलवार रात वह कासगंज तक आए वाहन से उतर गए। उनसे मोबाइल पर लगातार बात हो रही थी। बताया कि रात में ही पिता को कासगंज पुलिस ने पकड़ लिया और मोबाइल भी छीन लिया। जब उसने फोन मिलाया तो पुलिसकर्मी ने कहा कि पिता हिरासत में हैं। मगर, पकडऩे का कारण नहीं बताया। स्वजन सुबह करीब छह बजे कासगंज सदर कोतवाली पहुंचे। यहां पुलिस ने बताया कि उसके पिता को रात में ही छोड़ दिया गया था। जब वह कन्नौज लौटने लगे तो सुबह करीब 10 बजे कासगंज पुलिस का फिर फोन आया और कहा गया कि पिता का शव सदर कोतवाली क्षेत्र के दौलतपुर कालोनी स्थित एक प्लाट में मिला है। यह भी बताया कि राहगीरों ने सूचना दी थी। आशीष ने बताया कि पिता के शरीर पर चोट के निशान हैं।  

Edited By: Akash Dwivedi