जेएनएन, कानपुर : अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल की कीमत से अधिक पर देश में पेट्रोल और डीजल बेचा जा रहा है। लगातार बढ़ रही कीमतों से आम आदमी महंगाई के बोझ तले दबा जा रहा है। सरकार को कीमतें कम करनी होंगी। ऐसा नहीं हुआ तो युवक कांग्रेस बड़ा आंदोलन करेगी। शुक्रवार को ये बातें उप्र युवक कांग्रेस अध्यक्ष कनिष्क पांडेय ने पेट्रोल डीजल मूल्यवृद्धि के विरोध में शिक्षक पार्क परेड से निकाली गई धक्का मार रैली में कहीं। दोपहिया वाहनों को धक्का मारते हुए कार्यकर्ता बड़ा चौराहा पहुंचे।

उन्होंने कहा, आर्थिक तंगी से परेशान लोगों पर लगातार पेट्रोलियम पदार्थो की मूल्य वृद्धि उनकी कमर तोड़ने का काम कर रही है। संगठन सचिव अभिनव तिवारी ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत 50.96 डालर प्रति बैरल है, यानी कच्चे तेल की कीमत 23.43 रुपये प्रति लीटर है, बावजूद इसके डीजल 75.66 और पेट्रोल 84.66 रुपये प्रति लीटर बेचा जा रहा है। उन्होंने कहा कि पिछले 73 साल में पेट्रोल डीजल की कीमतें आज सबसे अधिक हैं। मो. तौहीद, मुकेश वाल्मीकि, रतिदेव बाजपेयी, ऋषभ दुबे, आयुष अग्रवाल, पुनीत राज शर्मा, अभिषेक मिश्रा, हमजा निहाल, राहुल द्विवेदी, अफरोज आलम आदि रहे। अधिशासी अभियंता और लिपिकों का रोका गया वेतन,कानपुर : फील्ड कर्मचारियों की लंबित मांग का निस्तारण न करने पर मुख्य अभियंता ने कानपुर क्षेत्र के अभियंताओं और लिपिकों का वेतन रोक दिया गया है। मांगों का निस्तारण होने के बाद ही वेतन दिया जाएगा। पीडब्ल्यूडी नियमित नियमित वर्कचार्ज कर्मचारी संघ के क्षेत्रीय मंत्री उमाशंकर दीक्षित ने बताया कि कई वर्षों से मांगें रख रहे हैैं, लेकिन अधिकारी निस्तारण नहीं कर रहे हैं। इसको लेकर मुख्य अभियंता दिवाकर शुक्ला ने इटावा, कन्नौज, फर्रुखाबाद के अधीक्षण अभियंता को पत्र लिखा है कि कोई भी अधिशासी अभियंता फील्ड कर्मचारियों की मांग को लेकर रुचि नहीं ले रहा। आयकर विभाग ने शुरू की ट्विन टॉवर की जांच, कानपुर : आयकर विभाग ने ट्विन टॉवर अपार्टमेंट में चल रहे मरम्मत कार्यो के साथ फ्लैटों की खरीद फरोख्त संबंधित पहलुओं एवं जमा धनराशि के हो रहे अपव्यय की जांच शुरू कर दी है। पहले सभी 48 फ्लैट मालिकों को आयकर विभाग ने नोटिस भेज कर जवाब मांगा था। बाद में दो-तीन लोगों से ही जवाब देने को कहा गया। शुक्रवार को तृप्ति पांडेय, देवेंद्र वाजपेयी और डॉ. एसके सिंह ने जवाब दिया। बगैर सोसायटी व सचिव के चल रहे अपार्टमेंट की वर्षो से मरम्मत न होने के कारण छज्जे टूटकर गिर रहे थे। पांच वर्ष पहले मरम्मत कार्य की शुरुआत हुई, लेकिन ठेकेदार भुगतान राशि लेकर भाग गया। इसके बाद अपार्टमेंट के ही लोगों ने पैसा इकट्ठा कर मरम्मत कार्य शुरू करवाया। इसके एवज में कुछ फ्लैट स्वामियों ने पैसे जमा किए। पीएमओ में जमा धनराशि के अपव्यय होने की शिकायत के बाद आयकर विभाग को जांच सौंपी गई।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021