कानपुर, जेएनएन। यदि आप बेरोजगार हैं और नौकरी के लिए फार्म भरते हैं तो जरा सावधान हो जाएं। क्योंकि कुछ गिरोह फार्म भरने वाले युवाओं को ठगी का शिकार बना रहे हैं। ऐसा ही एक मामला गोविंद नगर में सामने आया है, नौकरी के लिए आवेदन करने वाले युवक को फर्जी कॉल लेटर के आधार पर ठगने का प्रयास किया गया। युवक ने सूझबूझ का परिचय देते हुए फर्जी सत्यापन अधिकारी बनकर आए शातिर को दबोच लिया और पुलिस के हवाले कर दिया है। शातिर जालसाज के पास कई फर्जी दस्तावेज बरामद होने पर पुलिस पूछताछ में जुटी है।

दबौली निवासी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्र राहुल तलवार ने बताया कि वह नौकरी के लिए अलग अलग विभागों से फार्म भरता रहता है। बीते पांच चार अक्टूबर को भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) का एक कॉल लेटर आया था, जिसपर एक मोबाइल नंबर लिखा था। उसने संपर्क किया तो नॉकरी लगवाने के लिए उससे आठ हजार रुपये खाते में जमा कराए। इसके बाद उससे कहा गया कि विभाग का एक अधिकारी वेरिफिकेशन के लिए आएगा और उसे 20 हजार रुपए दे देना तो रिपोर्ट सही लगेगी।

राहुल ने बताया कि नौकरी के लिए कई फॉर्म भरने के कारण काल लेटर आने पर आश्चर्य नहीं हुआ था। बाद में रुपये की मांग से उसे संदेह हुआ। वह शहर के एफसीआई कार्यलय गए और कॉल लेटर दिखाया तो उसे फर्जीवाड़े की जानकारी हुई। इसके बाद सोमवार को वेरिफिकेशन करने फर्जी अधिकारी घर आया तो परिजनों व पड़ोसियों की मदद से उसे पकड़ लिया। इसके बाद उसे पुलिस के हवाले किया।

पुलिस की पूछताछ में पकड़े गए फर्जी अधिकारी ने अपना नाम सुभाष निवासी प्रयागराज रमईपुर बताया। उसके पास फर्जी एफसीआई का लेटर, आधार कार्ड व फर्जी दस्तावेज बरामद हुए हैं। पुलिस की सख्ती पर उसने फर्जी लेटर भेजकर ठगी की बात कबूली है। अब पुलिस उसके साथियों का पता लगा रही है। थाना प्रभारी संजीव कांत ने बताया कि आरोपित से पूछताछ कर जानकारी जुटाई जा रही है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस