जागरण संवाददाता, कानपुर : नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा के तहत सीवर डिस्ट्रिक्ट एक में हो रहे 370 करोड़ से चल रहे कामों को व‌र्ल्ड बैंक टीम ने देखा। इस दौरान जल निगम के अभियंताओं से कहा गया कि ऐसी खोदाई की जाए कि पब्लिक को दिक्कत न हो। सीवर समस्या के निस्तारण के लिए पचास साल का विजन लेकर काम कराया जाए।

टेक्निकल एक्सपर्ट माइकल जॉन, वेबस्टर डी जॉन्ग, आलोक सुमन, एके मोहंती समेत आठ सदस्यीय व‌र्ल्ड बैंक की टीम ने वीआइपी रोड पर चल रहे काम को देखा। इस दौरान उन्होंने बेरीकेडिंग बढ़ाने के साथ और बोर्ड लगाने को कहा ताकि जनता को दिक्कत न हो। टीम ने खलासी लाइन क्षेत्र में मकराबर्टगंज के पास चल रहे काम को भी देखा।

इसके पहले टीम ने मुख्य अभियंता कार्यालय बेनाझाबर में बैठक की। उन्होंने कहा कि काम की गति बढ़ाकर समय पर पूरा कराया जाए। अभी नौ फीसद काम हुआ है जबकि टीम के हिसाब से 12 फीसद तक होना चाहिए था। इस प्रोजेक्ट में सौ किलोमीटर लाइन पड़नी है लेकिन अभी इसकी शुरुआत तक नहीं हुई है। छह माह बाद टीम फिर आकर निरीक्षण करेगी। इस अवसर पर जल निगम के मुख्य अभियंता अनिल कुमार गुप्ता, महाप्रबंधक आरके अग्रवाल आदि मौजूद थे।

एक नजर में प्रोजेक्ट

योजना- 370 करोड़ रुपये

काम - 34 वार्डो में सीवर लाइन की सफाई होने और नयी सौ किलोमीटर पाइप डाला जाना।

पंपिंग स्टेशन बन रहे -कोपरगंज , गांधीपार्क गांधीग्राम, पुरानी चुंगी के पास जाजमऊ, नारायण घाट विष्णुपुरी, पटकापुर व जाजमऊ ।

दूषित पानी जाएगा- वाजिदपुर स्थित सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट

कार्यदायी कंपनी

कोलकाता की सृष्टि इंटरप्राइजेज प्राइवेट लिमिटेड।

काम शुरू हुआ- अगस्त 2017 में

पूरा होना है - जुलाई 2020 में

Posted By: Jagran