कानपुर: कानपुर में सीवर लाइन तथा गंगा के किनारे बसों गांवों में सफाई व्यवस्था को लेकर चल रहे 370 करोड़ के कामों को देखने विश्व बैंक की टीम मंगलवार को यहां पहुंची। टीम के अधिकारियों ने बेनाझाबर स्थित जल संस्थान कार्यालय में अधिकारियों के साथ बैठक की। इसके साथ ही वह खलासी लाइन में चल रहे कामों का निरीक्षण करेगी।

गौर तलब है कि शहर में गंगा की सफाई, शहर में सफाई और गंगा में शहर का सीवर जाने से रोकने और पंपिंग स्टेशन के निर्माण जैसे कई काम चल रहे हैं। इसमें गंगा तट पर बसी आबादी को सीवर लाइन से जोड़ने और उनकी सीवर लाइन ठीक करने का काम प्रमुख है। 370 करोड़ के इस प्रोजेक्ट का काम जुलाई 2017 से शुरू होना है और 2019 को पूरा होना है। अबतक हुए कामों को देखने के लिए विश्व बैंक की टीम मंगलवार को कानपुर आई। टीम के अधिकारियों बेनाझाबर स्थित जल निगम कार्यालय में नगर निगम, जल निगम और गंगा परियोजना से जुड़े अधिकारियों के साथ बैठक कर कामों की समीक्षा की इसके कामों में तेजी लाने पर चर्चा की। अधिकारियों के अनुसार गंगा से जुड़े मोहल्लों को सीवर से जोड़ कर गंदे पानी को रोकना प्राथमिकता है। इसके साथ शहर में नवाब गंज सहित बन रहे छह पम्पिग स्टेशनों के कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया। बताया गया कि बैठक के बाद गंगा तट से जुड़े खलासी लाइन में चल रही सीवर लाइन के कामों का निरीक्षण करेगी.

Posted By: Jagran