कानपुर, जागरण संवाददाता। चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र उत्तर पश्चिमी बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना होने से कानपुर सहित आसपास के जिलों में मानसून सुस्त पड़ गया है। आसमान में आ रहे मेघ बरस नहीं रहे। इससे वर्षा का इंतजार बढ़ गया है। उमस भरी गर्मी लोगों का पसीना छुड़ा रही है। सीएसए के मौसम विज्ञान केंद्र में बुधवार को अधिकतम तापमान 37.8 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पूरे दिन उत्तर-पूर्व दिशा से 9.2 किमी प्रति घंटा की गति से हवा चली। सीएसए मौसम विभाग के विज्ञानी डा. एसएन सुनील पांडेय ने अगले चार दिनों में हल्के से मध्यम बादल छाए रहने के साथ 10 जुलाई तक आंशिक बूंदाबांदी की संभावना जताई है। 

मौसम विज्ञानी ने बताया कि मानसून की ट्रफ लाइन (अक्षीय रेखा) राजस्थान, मध्य प्रदेश, ओडिशा तक है। इस वजह से वर्षा की गतिविधियां भी इसी के आसपास होंगी। कानपुर मंडल में अगले सप्ताह से वर्षा होने के आसार बने हैं। उन्होंने बताया कि चक्रवाती हवा का क्षेत्र उत्तर पश्चिमी बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना हुआ है, जो कानपुर मंडल में वर्षा की राह में अड़चन पैदा कर रहा है।

Edited By: Abhishek Verma