कानपुर, जेएनएन। अभी तक माना जा रहा था कि बिकरु कांड में शामिल रहे विकास समेत सात साथी एनकाउंटर में मारे गए और आखिरी आरोपित रामू बाजपेयी की गिरफ्तारी की गई है। लेकिन, बुधवार को कांड में शामिल रहे एक और आरोपित के शामिल होने की बात सामने आई है। पुलिस ने विकास के खास गुर्गे गुड्डन के साथी रूरा निवासी अखिलेश दीक्षित को गिरफ्तार किया है। पुलिस दावा है इसका नाम गुड्डन त्रिवेदी ने ही उसका नाम बताया था और उसपर 25 हजार रुपये का इनाम था। पुलिस के मुताबिक पूछताछ में आरोपित ने बताया है कि उसने घटना की रात विकास दुबे कहने पर लाइसेंसी राइफल से पुलिसकर्मियों पर ताबड़तोड़ फायरिंग की थी।

सात का एनकाउंटर, 36 आरोपित जेल में

बिकरू गांव में बीती दो जुलाई को सीओ देवेंद्र मिश्र समेत आठ पुलिस कर्मियों की हत्या कर दी गई थी। मामले में पुलिस ने 21 नामजद आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था, जबकि जांच के बाद 21 नाम और प्रकाश में आए थे। नामजद आरोपितों में से विकास दुबे, अमर दुबे, अतुल दुबे, प्रेमप्रकाश पांडेय, प्रभात मिश्र और प्रवीण शुक्ल उर्फ बउवन को मुठभेड़ में मार गिराया था। नामजद आरोपितों में अंतिम फरार आरोपति रामू बाजपेयी को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था, अबतक 36 आरोपित जेल में हैं। 

विकास के कहने पर रायफल लेकर आया था अखिलेश

एसटीएफ व पुलिस की टीम ने रूरा कानपुर देहात निवासी 25000 के इनामी अखिलेश दीक्षित को चौबेपुर के बंदी माता तिराहे के पास से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने बुधवार को उसकी निशानदेही पर तात्यागंज गांव के पास जंगल से घटना में प्रयुक्त की गई लाइसेंसी राइफल को बरामद कर लिया। पूछताछ के दौरान आरोपी अखिलेश दीक्षित ने बताया कि 2 जुलाई की रात विकास दुबे ने उसे बिकरु गांव राइफल लेकर आने को कहा था।

घटना की रात में दबिश के दौरान विकास के कहने पर उसने पुलिसकर्मियों पर छत से ताबड़तोड़ फायरिंग की थी, जिसमें सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी मारे गए थे। चौबेपुर थाना प्रभारी कृष्ण मोहन राय ने बताया कि आरोपित को गिरफ्तार करने के बाद जेल भेज दिया गया है। उसकी निशानदेही पर 315 बोर की लाइसेंसी राइफल,10 कारतूस व एक कारतूस का खोखा भी बरामद किया गया है। लाइसेंसी राइफल अखिलेश के नाम है। जिसका लाइसेंस निरस्तीकरण को भेजा गया है।

अब तक सामने नहीं आया था नाम

अखिलेश दीक्षित का नाम पुलिस ने अब तक सार्वजनिक नहीं किया था। पुलिस के मुताबिक अखिलेश, गुड्डन त्रिवेदी का साथी है।विकास दुबे के करीबी गुड्डन त्रिवेदी को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। पुलिस से पूछताछ के दौरान गुड्डन त्रिवेदी ने अखिलेश का नाम बताया था। पुलिस ने इसका नाम पूरी तरह से गुप्त रखा और सूचना मिलते ही उसे धर दबोचा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस