कानपुर, जेएनएन। अगले 24 घंटे में तेज बारिश के आसार बन रहे हैं। बंगाल की खाड़ी से दक्षिण पश्चिमी हवा और अरब सागर से उत्तर पूर्वी नम हवाएं मैदानी क्षेत्रों की और आ रहीं हैं। इनके टकराने से तेज आंधी और बारिश की संभावना जताई जा रही है। दो दिन पहले दोनों हवाओं के चलते बनी चक्रवाती हवा का क्षेत्र यूपी पर बन गया था, जो नेपाल के काठमांडू पहुंच गया।

चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम विज्ञानी डॉ. एसएन सुनील पांडेय ने बताया की प्रदेश मे 85 फीसद मानसून सक्रिय है। अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से नम हवाएं आ रही हैं। दोनों के मिलने से आंधी आने, वर्षा के आसार होते हैं। कानपुर समेत आसपास क्षेत्र हमीरपुर, सहारनपुर, गोरखपुर आदि शहरों में मानसून की लाइन बनी हुई है। अरब सागर की हवा के हिमालय से टकराकर वापस मैदानी क्षेत्रों में लौटने से चक्रवाती क्षेत्र बनने की उम्मीद है।

डॉ. पांडेय के मुताबिक अगले 24 घंटों के दौरान मध्य प्रदेश के अधिकांश हिस्सों, पूर्वी उत्तर प्रदेश के शेष हिस्सों, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब के कुछ हिस्सों में मानसून के आगे बढ़ने के लिए अनुकूल स्थिति बनने के आसार हैं। ओडिशा और इससे सटे झारखंड के कुछ हिस्सों पर कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। संबद्ध चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र मध्य क्षोभमंडल स्तर तक फैला हुआ है और ऊंचाई के साथ दक्षिण-पश्चिम की ओर झुक रहा है। पाकिस्तान के मध्य भाग से लेकर झारखंड और उड़ीसा पर पर बने निम्न दबाव के क्षेत्र तक एक निम्न दबाव की रेखा दक्षिण हरियाणा, दक्षिण उत्तर प्रदेश, पूर्वोत्तर मध्य प्रदेश और उत्तरी छत्तीसगढ़ होते हुए जा रही है। एक ट्रफ रेखा उत्तरी महाराष्ट्र से केरल तट तक फैली हुई है।

मौसम का हाल

चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम विभाग के अनुसार सोमवार को अधिकतम तापमान 31.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्रू से 7.5 डिग्री कम रहा। वहीं न्यूनतम तापमान 25.8 डिग्री सेल्सियस था, जो सामान्य से 1.8 डिग्री नीचे था। सापेक्षिक आर्द्रता अधिकतम 89 प्रतिशत और न्यूनतम 71 प्रतिशत रिकॉर्ड की गई। उत्तर पूर्वी हवा की औसत गति 7.8 किमी प्रतिघंटा रही। बारिश एक मिमी दर्ज की गई है। उत्तर प्रदेश के मध्य क्षेत्र में बादल छाए रहने और तेज हवाओं के साथ बारिश होने की संभावना है।

Edited By: Abhishek Agnihotri