कानपुर, जेएनएन। केंद्रीय ग्रामीण विकास राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने श्रमशक्ति एक्सप्रेस के गार्ड और ट्रेन में तैनात जीआरपी के जवानों पर अभद्रता का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई है। रेलवे का दावा है कि केंद्रीय मंत्री आधा प्लेटफार्म छोड़ चुकी ट्रेन रुकवाने की कोशिश में थीं। ट्रेन न रुकने से वह नाराज हो गईं। घटना 29 अक्टूबर की है। श्रमशक्ति एक्सप्रेस कानपुर से दिल्ली के लिए रात 11.50 बजे छूटती है।

केंद्रीय मंत्री के निजी सहायक राजेंद्र निषाद ने बताया कि जब वह केंद्रीय मंत्री के साथ स्टेशन पहुंचे तो ट्रेन चल पड़ी। मंत्री कोच से कुछ दूरी पर थीं, इसलिए गार्ड से ट्रेन रुकवाने की गुजारिश की,लेकिन उसने अनसुना कर दिया। जब वह कोच में चढ़े तो जीआरपी स्टॉफ ने अभद्रता करते हुए नीचे उतार दिया। हालांकि रेलवे के अधिकारियों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि मंत्री जिस समय पहुंचीं तब ट्रेन आधा प्लेटफार्म छोड़ चुकी थी। ट्रेन को नहीं रोका जा सकता था। मंत्री नाराज हुईं तो अगली ट्रेन प्रयागराज एक्सप्रेस में उनके लिए एक सीट की व्यवस्था की गई लेकिन वह नाराज होकर लौट गईं।

हालांकि रेलवे ने इस मामले में अपने कर्मचारियों को क्लीन चिट नहीं दी है। रेलवे प्रशासन अब जांच करा रहा है कि कहीं गार्ड या जीआरपी की ओर से कोई अभद्रता तो नहीं की गई। मंत्री के निजी सहायक की शिकायत पर जांच की जा रही है। उत्तर मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी अजीत कुमार सिंह ने बताया कि अगर टे्रन रवाना हो चुकी है तो उसे रोकना उचित नहीं होता। जहां तक अभद्रता का सवाल है तो जांच में जो भी दोषी मिलेगा उस पर कार्रवाई होगी। 

Posted By: Abhishek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप