कानपुर, जागरण संवाददाता। नई शिक्षा नीति में विद्यार्थियों के कौशल विकास का पाठ्यक्रम शामिल किया गया है। स्कूलों में चौथी व इससे ऊपर की क्लास के विद्यार्थियों में रोबोटिक्स व थ्रीडी पेन व सेंसर एक्टीविटीज सिखाने पर जोर दिया जा रहा है।

टिंकर इंडिया अभियान के अन्तर्गत अब प्राइमरी विद्यालयों के विद्यार्थियों को रोबोटिक्स व थ्रीडी पेन से स्केचिंग करना सिखाया जाएगा। विज्ञान भारती के सहयोग से संचालित टिंकर लैब के प्रशिक्षक स्कूलों में जाकर विद्यार्थियों का कौशल विकास करेंगे। विद्यार्थियों को थ्रीडी पेन से स्केचिंग, ब्रेडबोर्ड एक्टिविटीज, पेपर सर्किट, रोबोटिक्स, सेंसर एक्टिविटी के बारे में बताया जाएगा। इसकी शुरुआत विकास नगर स्थित जुगल देवी शिशु वाटिका सरस्वती विद्या मंदिर से की जानी है। 

अभियान के निदेशक कौस्तुभ ओमर बताया कि शहर की प्राथमिक विद्यालयों को इस अभियान में शामिल करने का प्लान बना है। पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर पहले निजी और परिषदीय स्कूलों को चिह्नित किया जाएगा। पहले चरण में शुरुआत चौथी कक्षा के बच्चों को शामिल करेंगे।

इन्हें रोबोटिक्स की खासियत व उपकरण के बारे में बताने, थ्रीडी पेन से स्केच बनाने व सेंसर गतिविधियों वाले उपकरण को शामिल किया जाएगा। इससे विद्यार्थियों में सीखने की क्षमता का पता चलेगा। स्कूलों में प्रशिक्षकों से सप्ताह में दो दिन प्रशिक्षण दिलाने की कार्ययोजना बनी है।

Edited By: Abhishek Verma