जागरण संवाददाता, कानपुर : उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के बेड़े में 650 बसें शामिल होंगी। ये सभी बसें कानपुर की दोनों कार्यशाला में निर्मित की जाएंगी।

पिछले एक वर्ष से केंद्रीय कार्यशाला रावतपुर और डॉ. राम मनोहर लोहिया एलेन फारेस्ट कार्यशाला विकास नगर में बसों का निर्माण बंद है। बताया जा रहा कि योगी सरकार पिछली सरकार में निर्मित बसों के निर्माण पर आए खर्च की जांच करा रही है। अब अप्रैल में सरकार दोनों कार्यशाला को 650 चेसिस उपलब्ध कराएगी। दोनों कार्यशाला 325 और 325 बसों का निर्माण करेंगी। डॉ. राम मनोहर लोहिया एलेन फारेस्ट कार्यशाला के प्रधान प्रबंधक रमेश कुमार ने बताया कि अप्रैल में चेसिस मिलने की उम्मीद है। 650 बसों के निर्माण में करीब तीन माह का समय लगेगा।

बसों में होंगी ये सुविधाएं

ø आरामदायक सीटें

ø सीट के पीछे पानी की बोतल व अखबार रखने वाला बैग।

ø मोबाइल चार्जर प्लग लगेगा।

ø बस के आगे इलेक्ट्रानिक्स डिस्प्ले बोर्ड से ये पता चलेगा कि कहां से कहां बस जा रही है।

ø पीछे की ओर भी इलेक्ट्रानिक्स डिस्प्ले बोर्ड होगा।

ø म्यूजिक सिस्टम लगेगा।

ø इलेक्ट्रिक समयसारिणी बोर्ड भी होगा।

बसों की स्थिति: प्रति बस निर्माण पर खर्च लगभग 15 लाख रुपये, दोनों कार्यशाला में प्रतिदिन चार बसों का निर्माण होगा।

By Jagran