कानपुर, जेएनएन। नकली डॉलर थमाकर कारोबारी से तीन लाख रुपये ठगने वाले तीन आरोपित बुधवार को कल्याणपुर पुलिस ने दबोच लिए। इनमें एक बांग्लादेश का है। यही नकली डॉलर व रुपये लाकर यहां खपाता था। पुलिस को शक है कि तीनों ही बांग्लादेश के  हिंग्या मुसलमान हैं। इनसे एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड (एटीएस) पूछताछ कर रही है। गिरोह के दूसरे सदस्यों की भी तलाश हो रही है।

बारासिरोही में रहकर दिखावे के लिए बीनते थे कूड़ा

सीसामऊ निवासी विजय बजाज के कल्याणपुर थाने में 16 फरवरी को मुकदमा लिखाने से यह मामला खुला। इंदिरा नगर बुलाकर ठगों ने उन्हें नकली डॉलर थमाकर तीन लाख रुपये ठग लिए थे। कल्याणपुर इंस्पेक्टर अजय सेठ के मुताबिक बुधवार को तरीकुलमुल्ला, राजू खां और आलिया बेगम को गिरफ्तार किया गया है। राजू खां खुद को बांग्लादेश के खुलना जिले के गांव छीरमुनी का बता रहा है तो तरीकुल पश्चिम बंगाल के उत्तर चौबीस परगना के गांव खड़ीघानी का। आलिया खुद को राजस्थान के धौलपुर छावनी का बता रही है। हालांकि बातचीत से तीनों  रोहिंग्या मुसलमान लग रहे हैं। तीनों बारा सिरोही में परवीन बेगम के यहां रहते और दिखावे के लिए कूड़ा बीनते थे।

यह हुआ बरामद

बकौल पुलिस, इनसे 20 डॉलर का एक और 100 व 50 रुपये के 96 जाली नोट (कुल 20 हजार रुपये), तीन बांग्लादेशी सिम, दर्जन भर सिम कवर, पांच मोबाइल फोन, चोरी की मोटरसाइकिल, 1250 ग्राम चरस बरामद हुई है।

लालच में फंसते थे दुकानदार

बतौर पुलिस, सामान लेने के दौरान दुकानदार को ये रुपये के बदले डॉलर देते थे। झांसा देते कि डॉलर कूड़े में पड़े मिले हैं। सस्ते के लालच में लोग ठग जाते। ये लोग नकली नोट भी खपाते थे। इनसे बरामद नोट भी एक ही नंबर के हैं। 

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस