जेएनएन, कानपुर: कोरोना से जंग में कारगर वैक्सीनेशन को जन-जन तक पहुंचाने में लाभकारी सिद्ध हो रहे ग्रीनपार्क के मेगा वैक्सीनेशन सेंटर पर आधी आबादी का दबदबा देखने को मिल रहा है। समाज में लगभग हर क्षेत्र में बराबरी से खड़ी रहने वाली महिलाएं वैक्सीनेशन के मामलें में भी पीछे नहीं दिख रही हैं। मेगा सेंटर पर प्रतिदिन होने वाले वैक्सीनेशन पर महिलाओं का उत्साह इसकी कहानी खुद बयां कर रहा है।

शहर में वैक्सीनेशन की रफ्तार को बढ़ाने में मददगार मेगा वैक्सीनेशन सेंटर पर प्रतिदिन सैकड़ों की संख्या में पुरुषों के साथ महिलाएं भी सुरक्षा की डोज लगवा रहीं हैं। खास बात यह है कि सेंटर पर उत्साहपूर्वक वैक्सीनेशन कराने के बाद महिलाएं सेल्फी लेकर दूसरों को भी प्रोत्साहित कर रहीं हैं। शुक्रवार को हुए वैक्सीनेशन में 1733 पुरुष जबकि 1237 महिलाओं ने वैक्सीनेशन कराया।

पिछले 15 दिनों में हुए वैक्सीनेशन का आंकड़ा :मेगा वैक्सीनेशन सेंटर पर पिछले पंद्रह दिनों में लगभग 16859 पुरुषों ने वैक्सीनेशन कराया। जबकि महिलाओं में यह आंकड़ा 11343 रहा। डिप्टी सीएमओ डाक्टर एसके सिंह के मुताबिक सेंटर पर बेहतर सुविधाएं देकर सभी को वैक्सीनेशन के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। हर वर्ग को अधिक से अधिक वैक्सीन लगवाना हमारा लक्ष्य है।

3210 लोगों ने लगवाई सुरक्षा की डोज : ग्रीनपार्क मेगा वैक्सीनेशन सेंटर पर शुक्रवार को कुल 3210 लोगों ने वैक्सीनेशन कराया। इसमें 2970 युवा और 200 लोग 45 वर्ष से अधिक आयुवर्ग के शामिल रहे। अभिभावक स्पेशल बूथ में 40 लोगों ने वैक्सीनेशन कराया।

अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण ने किया निरीक्षण :मंडलायुक्त डाक्टर राजशेखर द्वारा सेंटर पर दिव्यांगों के लिए काउंटर और रैंप बनाकर वैक्सीनेशन कराने के निर्देश के बाद अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण डाक्टर जीके मिश्रा ने निरीक्षण किया। उन्होंने वैक्सीनेशन की गति और व्यवस्थाओं की जानकारी हासिल कर जायजा लिया। सोमवार तक रैंप बनाकर वीआइपी पवेलियन में दिव्यांगों का वैक्सीनेशन किया जाएगा। छह हजार से अधिक युवाओं ने लगवाई वैक्सीन, कानपुर: कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए युवा (18-44 वर्ष) समझदारी दिखाते हुए वैक्सीनेशन के लिए निरंतर आगे आ रहे हैं। शुक्रवार को उत्साहित 6,435 युवाओं ने कोविड वैक्सीनेशन सेंटर (सीवीसी) पहुंच कर वैक्सीन की पहली डोज लगवाई। वहीं, 45 की उम्र पार व्यक्ति भी पीछे नहीं हैं, पहली और दूसरी डोज मिलाकर 10,985 का वैक्सीनेशन किया गया। अपर निदेशक चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण कानपुर मंडल डा. जीके मिश्रा ने बताया कि शुक्रवार को जिले में युवाओं के वैक्सीनेशन के लिए 56 सीवीसी बनाए गए थे। जहां 8,800 युवाओं को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य था, उसमें से 6,435 युवाओं को वैक्सीन की पहली डोज लगाई गई। युवाओं का वैक्सीनेशन 73.1 फीसद रहा। इसी तरह 45 की उम्र पार व्यक्तियों के वैक्सीनेशन के लिए 153 सीवीसी थे, जहां 19,000 को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य था। उसमें से 8915 को वैक्सीन की पहली डोज लगाई गई, जबकि दूसरी डोज 2,070 को लगाई जा सकी। दोनों डोज मिलाकर 10,985 का वैक्सीनेशन हुआ, जो 57.8 फीसद है। रूस की वैक्सीन स्पुतनिक के 20 जून तक आने की संभावना, कानपुर : जिले में कोरोना वायरस की तीसरी लहर से निपटने के लिए वैक्सीनेशन की रफ्तार बढ़ाई जा रही है। सरकारी के साथ निजी अस्पतालों में टीका लग रहा है। रीजेंसी हास्पिटल में जहां कोवैक्सीन लगाई जा रही है, वहीं पनकी स्थित नारायणा मेडिकल कालेज में 20 जून तक रूस की वैक्सीन स्पुतनिक वी उपलब्ध होने की संभावना है। कालेज प्रबंधन को कंपनी ने ईमेल भेजकर वैक्सीन मुहैया कराने की बात कही है। रूसी वैक्सीन स्पुतनिक वी ने डा. रेड्डीज लैबोरेटरीज से करार किया है। हैदराबाद स्थित डा. रेड्डीज लैबोरेटरीज के माध्यम से देश भर में स्पुतनिक वी वैक्सीन मुहैया कराई जाएगी। नारायणा कालेज प्रबंधन ने कंपनी को ईमेल भेजकर संवाद किया था। कंपनी की सहमति के बाद प्रबंधन ने 10 हजार डोज की डिमांड भेजी थी। वहां से ईमेल भेजकर कंपनी के जिम्मेदारों ने 20 जून तक वैक्सीन उपलब्ध कराने की सूचना दी है। इस संबंध में नारायणा समूह के प्रबंध निदेशक उदित नारायण ने बताया कि स्पुतनिक वी वैक्सीन की 10 हजार डोज की डिमांड की है। वहां से 20 जून तक भेजने के लिए कहा गया है। वैक्सीन को सुरक्षित रखने के लिए कोल्ड तैयार करा रहे हैं। वैक्सीन माइनस 20 डिग्री में सुरक्षित रखनी है। ट्रायल के बाद 25 वालंटियर्स का डाटा भेजा गया आइसीएमआर, कानपुर : बच्चों की स्वदेशी कोवैक्सीन के ट्रायल के चौथे दिन वालंटियर्स को वैक्सीन नहीं लगाई गई। तीन दिन हुए ट्रायल में 25 वालंटियर्स का डाटा तैयार करके इंडियन काउंसिल आफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) को भेजा गया है। उधर, आगे के ट्रायल के लिए चार बच्चों की स्क्रीनिग की गई। आर्य नगर स्थित प्रखर हास्पिटल में बच्चों की कोरोना कोवैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। मंगलवार से लेकर गुरुवार तक 25 वालंटियर्स को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। उसमें से 6-12 वर्ष के पांच, जबकि 12-18 वर्ष के 20 वालंटियर्स हैं। वैक्सीन ट्रायल के चीफ गाइड प्रो. जेएस कुशवाहा ने बताया कि ती 25 वालंटियर्स का डाटा आइसीएमआर को भेजा गया है। वहां उन सभी का सेफ्टी प्रोफाइल तैयार किया जाएगा। वहां सुरक्षा के सभी मानक चेक किए जाएंगे। सब संतोषजनक होने के बाद ही आगे का ट्रायल शुरू होगा। प्रो. कुशवाहा ने बताया कि 2-6 वर्ष के उम्र वर्ग के वालंटियर्स को वैक्सीन ट्रायल की अनुमति एवं तिथि आइसीएमआर से मिलेगी। देश भर के छह संस्थानों से भेजे गए डाटा का वहां विशेषज्ञ अध्ययन कर रहे हैं। हर्ड इम्युनिटी जानने को तीन दिन में लिए 760 सैंपल, कानपुर : प्रदेश में कोरोना की पहली और दूसरी लहर के बाद की स्थिति और तीसरे लहर से निपटने के लिए शासन के स्तर से सीरो सर्वे कराया जा रहा है, ताकि यह पता चल सके कि कितने में अपने आप प्रतिरोधक क्षमता (हर्ड इम्युनिटी) बन गई है। वैक्सीनेशन के बाद कितने फीसद आबादी सुरक्षित हुई है। तीन दिन से चल रहे सीरो सर्वे में 20 ग्रामीण और 11 शहरी क्षेत्र मिलाकर स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने शुक्रवार तक 744 के खून के सैंपल एकत्र किए। वहीं, पुराने सीरो सर्वे में 65 में एंटीबाडी मिली थी, जिसमें से 45 से स्वास्थ्य विभाग ने संपर्क किया था, लेकिन उसमें से सिर्फ 16 के ही सैंपल मिल सके। इस तरह कुल 760 सैंपल जांच के लिए लखनऊ के किग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी भेजे जाएंगे। सीरो सर्वे नोडल अफसर डॉ. राधेश्याम ने बताया कि शहरी क्षेत्र में हुमायूंबाग व गुजैनी और ग्रामीण क्षेत्र में बिधनू, कल्याणपुर, शिवराजपुर व घाटमपुर से 24-24 लोगों के सैंपल लिए गए। तीन दिन में शहरी और ग्रामीण क्षेत्र मिलाकर 31 स्थानों से 744 के रैंडम सैंपल लिए गए हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप