कानपुर देहात, जेएनएन। साथ चलने से इन्कार पर एकतरफा प्रेम में पागल शिक्षक ने गुरुवार सुबह आठवीं की छात्रा की सरे राह गोली मारकर हत्या कर दी। वारदात के बाद आरोपित साथी संग बाइक से फरार हो गया। बहबलापुर गांव में हुई इस घटना से सनसनी फैल गई। घटना से गुस्साए ग्र्रामीणों ने स्कूल जाकर हंगामा और तोडफ़ोड़ की। छात्रा के मामा की तहरीर पर शिक्षक व उसके साथी पर मुकदमा दर्ज किया गया है। 

  सैनपुर, अछल्दा जिला औरैया निवासी 13 वर्षीय छात्रा अनामिका बहबलापुर गांव स्थित ननिहाल में रहती थी। वह मंगलपुर स्थित आर्यभट्ट स्कूल में आठवीं की छात्रा थी। गुरुवार सुबह वह बस से स्कूल गई थी। बस खराब होने पर छुट्टी में दूसरे वाहन से बहबलापुर मोड़ तक आई और दो बच्चों संग पैदल घर जा रही थी।  सुबह करीब साढ़े दस बजे पीछे से साथी के साथ बाइक से आए शिक्षक उडऩापुर निवासी शैलेंद्र राजपूत ने छात्रा को जबरन बाइक पर बैठाने की कोशिश की। विरोध पर शैलेंद्र ने तमंचे से छात्रा को गोली मार दी।

सिर में कान के पास गोली लगने से छात्रा लहूलुहान होकर गिर पड़ी और हमलावर झींझक-सिकंदरा मार्ग की ओर भाग निकले। साथ चल रहे बच्चे घटना देखकर डर गए और चिल्लाते हुए गांव की तरफ दौड़ पड़े। बच्चों का शोर सुनकर वहां से निकल रहे गांव के गौरव यादव ने जख्मी छात्रा को देखा तो परिवारीजनों व पुलिस को जानकारी दी। छात्रा को हवासपुर सीएचसी ले जाया गया। हालत नाजुक होने पर डॉक्टर ने उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया। परिवारीजन उसे इटावा ले गए, वहां छात्रा की मौत हो गई। एसपी अनुराग वत्स, एएसपी अनूप कुमार, सीओ डेरापुर आरके मिश्र ने घटनास्थल पर पूछताछ की। 

छात्रों ने स्कूल में किया हंगामा

छात्रा के मामा ऋतिक ने आरोपित शिक्षक व साथी पर मुकदमा दर्ज कराकर बताया कि वह प्रेम संबंध स्वीकारने का दबाव बना रहा था। इन्कार करने पर भांजी की हत्या कर दी। घटना से गुस्साए लोगों ने स्कूल में तोडफ़ोड़ कर दी जबकि विद्यालय के प्रधानाचार्य का कहना है कि छात्रा की शिकायत पर आरोपित शिक्षक को अगस्त में हटा दिया गया था। एसपी ने बताया कि बच्चों से घटनाक्रम की जानकारी मिली है। आरोपित व उसके साथी की धरपकड़ का प्रयास किया जा रहा है। सीओ रामकृष्ण मिश्र ने बताया कि छात्रा की मौत होने के बाद मुकदमा हत्या की धारा में तरमीम करके आरोपित की तलाश की जा रही है। 

ग्रामीणों ने झींझक-सिकंदरा रोड जाम की

शुक्रवार सुबह छात्रा का शव गांव बहबलापुर पहुंचा तो गुस्साए ग्रामीणों ने झींझक-सिकंदरा रोड पर सुबह आठ बजे आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए जाम लगा दिया। सूचना पर एसडीएम सिकंदरा व सीओ डेरापुर मौके पर पहुंचे। गांव वालों को आश्वासन दिया कि 12 घंटे के अंदर आरोपित को दबोच लिया जाएगा। करीब दो घंटे बाद ग्रामीणों ने इस आश्वासन पर जाम हटा लिया।

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस