कानपुर, जेएनएन। बच्चों में भी बचत की आदत डालने के लिए एसबीआइ एक खास सौगात लेकर आया है। इसके तहत दो खास बैंक खातों की व्यवस्था की गई है। इस योजना की रफ्तार बढ़ाने के लिए बैैंक अब स्कूलों की भी मदद लेगा। इन बैंक खातों में बच्चों को एटीएम कार्ड भी मिलता है और उन पर उनकी फोटो भी होती है। अधिकारियों का मानना है कि अपनी तस्वीर एटीएम कार्ड पर देखकर बच्चे बचत के लिए प्रोत्साहित होंगे।

पहला कदम और पहली उड़ान

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने नाबालिगों के लिए पहला कदम और पहली उड़ान के नाम से दो तरह के बैंक खाते शुरू किए थे। पहला कदम में किसी भी आयु के नाबालिग खाता खुलवा सकते हैं, वहीं पहली उड़ान में 10 वर्ष से अधिक आयु के नाबालिग खाता खुलवा सकते हैं। इन खातों में न्यूनतम बैलेंस का कोई झंझट नहीं है। खाता खुलवाते समय बच्चे की जो फोटो लगाई जाती है, वह फोटो एटीएम कार्ड पर प्रिंट रहती है। पहला कदम खाता माता-पिता या अभिभावक के साथ खोला जाता है। इसका संचालन भी उनके साथ हो सकता है। पहली उड़ान में नाबालिग के नाम पर खाता खुल सकता है। वह इसका संचालन कर सकता है। इन खातों की रोज की ट्रांजेक्शन लिमिट पांच हजार रुपये है।

बचत की आदत बढ़ेगी

यह बच्चों के लिए बहुत अच्छी योजना है। स्कूलों में बच्चों के लिए इस खाते का प्रचार कर उन्हें बचत के लिए और प्रोत्साहित किया जाएगा।

-दीप शुक्ला, रीजनल सचिव, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया स्टाफ एसोसिएशन।  

Posted By: Abhishek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप