जागरण संवाददाता, कानपुर: झकरकटी समानांतर पुल के लिए पीडब्ल्यूडी एनएच ने रोडवेज को 5.95 करोड़ रुपये भेज दिए हैं। यह पैसा विभाग ने झकरकटी समानांतर पुल के एवज में ली गई रोडवेज की जमीन के लिए दिए हैं। पुल के लिए रोडवेज की जगह मिलने के बाद अब रेलवे की जमीन लेने के लिए विभाग तैयारी कर रहा है।

चार साल से अटके पड़े झकरकटी पुल को रेलवे की भी एनओसी मिल चुकी है। रोडवेज ने तो अपनी जगह देने के लिए जमीन की कीमत का आकलन करके पीडब्ल्यूडी एनएच को सौंप दिया। लेकिन अभी रेलवे में यह प्रक्रिया चल रही है। झकरकटी पुल पर रेलवे ने अपने हिस्से का काम करीब चार साल पहले ही पूरा कर दिया था। रोडवेज और रेलवे की जगह न मिलने के कारण काम अटका था। रोडवेज की 527 स्क्वायर मीटर जगह लेने के लिए रोडवेज ने अनुमति दे दी। साथ ही भूमि की कीमत का आकलन करके पीडब्ल्यूडी एनएच को 6 करोड़ 95 लाख रुपये का बिल सौंप दिया। इसके बाद पीडब्ल्यूडी एनएच ने भुगतान करने रोडवेज की जगह अधिग्रहित कर लेगा। इसके बाद रेलवे की तरफ से अटका रोड़ा भी हल हो गया है। पुल के लिए रेलवे की 1401 स्क्वायर मीटर जगह चाहिए। इसके लिए रेलवे बोर्ड को भेजे गए प्रस्ताव को स्वीकृति मिल गई है और फाइल इलाहाबाद को भेज दी गई है। रोडवेज के बाद अब रेलवे भी अपनी जगह की कीमत का आकलन करके पीडब्ल्यूडी एनएच को भेज देगा। 880 मीटर लंबाई का समानांतर पुल 108.28 करोड़ की लागत से बनेगा।

'सीओडी के बाद जीटी रोड पर जाम का दूसरा बड़ा स्थान झकरकटी पुल है। जल्द ही इसका निर्माण शुरु होगा। रोडवेज की जगह लेने के लिए भुगतान विभाग को भेज दिया गया है।'

-एस के सिंह, अधिशाषी अभियंता, पीडब्ल्यूडी एनएच।

Posted By: Jagran