कानपुर, जेएनएन। हावड़ा-दिल्ली रेल रूट 28 घंटे बाद बहाल हो गया। रूमा में पूर्वा एक्सप्रेस के हादसे के बाद रेल यातायात ठप हो गया था। करीब साढ़े सात घंटे बाद डाउन लाइन का यातायात बहाल हुआ था। स्लीपर व पटरियां उखड़ जाने से अप रेलवे ट्रैक पर ट्रेनों का आवागमन बंद कर दिया गया था। रविवार की सुबह साढ़े पांच बजे धीमी गति से मालगाड़ी को गुजार कर ट्रैक बहाल कर दिया गया है।
ये हुई थी घटना
शुक्रवार की आधी रात करीब 12:50 बजे हावड़ा से दिल्ली जा रही पूर्वा एक्सप्रेस रूमा के पास के डिरेल हो गई थी। पेंट्री कार समेत दस डिब्बे पटरी से उतर गए थे और पलट गए थे। हादसे में ट्रेन सवार करीब 67 यात्री घायल हुए थे। इसमें पंद्रह गंभीर घायलों को कांशीराम ट्रामा सेंटर भेजा गया था, यहां से तीन को गंभीर हालत में एलएलआर अस्पताल भेज दिया गया था। वहीं हादसे के बाद अप व डाउन लाइन पर रेल यातयात बंद हो गया था।

साढ़े सात घंटे में बहाल हुआ था डाउन ट्रैक
हादसे के बाद तकनीकी टीम ने आनन फानन मरम्मत कार्य शुरू करते हुए सबसे पहले डाउन ट्रैक बहाल किया था। डाउन ट्रैक की ओएचई और पटरियों की मरम्मत में 7 घंटा 48 मिनट का समय लगा था। यहां सबसे पहले शनिवार की सुबह साढ़े आठ बजे मालगाड़ी को पांच किमी प्रति घंटा की रफ्तार से गुजार गया था। इसके बाद अन्य ट्रेनों को काशन देकर निकाला गया था। अपने समय वाराणसी जा रही वंदे भारत एक्सप्रेस भी गुजारी गई थी।

अप लाइन बहाल करने में लगा 28 घंटे तीस मिनट
हादसे के बाद अप लाइन पर पांच सौ मीटर तक पटरियां और स्लीपर पूरी तरह से उखड़ गए थे। वहीं ओएचई के करीब आधा दर्जन पोल भी उखड़ गए थे। रेलवे इंजीनियरिंग विभाग की टीम ने तत्काल मरम्मत का कार्य शुरू कर दिया था। शनिवार आधी रात करीब दो बजे ट्रैक मरम्मत का कार्य पूरा कर लिया गया। इसके बाद तकनीकी टीम के परीक्षण और सिग्नल टीम की जांच के बाद ट्रैक ओके किया जा सका। रविवार सुबह 5:34 बजे सीपीसी मालगाड़ी को तीस किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से गुजारने के बाद अप लाइन के ट्रैक को बहाल कर दिया गया। इसके बाद करीब साढ़े छह बजे प्रयागराज एक्सप्रेस और फिर ब्रह्मपुत्र मेल सेंट्रल स्टेशन पहुंची। घटनास्थल पर टीम मौजूद और हर आने वाली ट्रेन को काशन देकर धीमी गति से गुजारा जा रहा है। इस तरह हादसे के बाद अप लाइन पर रेल यातयात बहाल होने में 28 घंटा तीस मिनट लग गए।

Posted By: Dharmendra Pandey