हमीरपुर, जागरण संवाददाता। मादक पदार्थों के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान में पुलिस को मंगलवार रात बड़ी सफलता हाथ लगी है। बिवांर पुलिस ने एक ट्रक में लदे आठ क्विंटल गांजा बरामद किया है। साथ ही दो आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। गांजा छत्तीसगढ़ से 40 बोरियों में भर लोहे के चूरे में छिपाकर लाया गया था। जिसकी सप्लाई महोबा में की जानी थी। एसपी ने जानकारी देते हुए गांजे की कीमत 80 लाख रुपए बताई है। साथ ही गांजा बरामद करने वाली टीम को 25 हजार रुपये से पुरस्कृत करने की घोषणा की है। 

एसपी कमलेश दीक्षित ने बताया कि 14 जनवरी को चालीस बोरियों में आठ क्विंटल गांजा छत्तीसगढ़ से लोड करके प्रदेश के अंदर लाया गया। बोरियों को लोहे के चूरा में छिपाकर रखा गया। लोहे के चूरा को लखनऊ खाली करना था, जबकि गांजे की डिलेवरी तस्करों द्वारा महोबा में किसी फरीद भाई नाम के शख्स को दी जानी थी। एसपी ने बताया कि इस मादक पदार्थ की तस्करी की सूचना मिलने पर मंगलवार रात बिवांर पुलिस ने बिवांर-मुस्करा होते हुए मुस्करा की ओर जाने वाले इस ट्रक को मौदहा तिराहे के पास जैसे ही रोका। वैसे ही ट्रक सवार दो युवकों ने भागने की कोशिश की। जिन्हें पुलिस ने पकड़ लिया।

पूछताछ में ट्रक चालक दानिश खान निवासी नरायच और रईस खान निवासी मदारपुर ने बताया कि ट्रक में लदे गांजा की सप्लाई महोबा निवासी फरीद भाई को करनी थी। एसपी ने बताया कि शीबू खान नाम का शख्स कुछ समय से रायपुर में रहकर मादक पदार्थों के धंधे में लिप्त है। इसके अलावा उसके साथी फरीद भाई, हारुन निवासी मदारपुर और आरिफ निवासी नरायच की भी तलाश की जा रही है। आरिफ और हारुन ट्रक की निकासी में लगे हुए थे। जो ट्रक पकड़े जाने के बाद फरार हो गए। एसपी ने बताया कि बरामद गांजे की कीमत करीब 80 लाख रुपए है। इस पूरे आपरेशन में प्रभारी निरीक्षक बिवांर दुर्गविजय सिंह, उपनिरीक्षक अरविंद कुमार मौर्य, हेड कांस्टेबल मुरलीधर, कांस्टेबिल प्रसुन्न पांडेय, मोहम्मद मोबीन, अतुल कुमार और विनीत कुमार सिंह की अहम भूमिका रही। 

Edited By: Abhishek Verma