कानपुर, जेएनएन। घाटमपुर के एक गांव में उस समय दहशत फैल गई। जब एक लकड़बग्घे के घूमने की सूचना मिली। इससे पूरे गांव के लोगों में तरह-तरह की चर्चा होने लगी। ग्रामीणों ने वन विभाग ने इस मामले की जानकारी दी। वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची और उसे पकड़ लिया। इससे गांव वालों ने राहत की सांसा ली।

कोतवाली क्षेत्र के बनहरी गांव में ग्रामीणों ने शनिवार को एक लकड़बग्घा पकड़ा। सूचना पर पहुंची वन विभाग की टीम को उसे सौंप दिया गया गया। वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि लकड़बग्घा को कानपुर चिडिय़ाघर भेजा जा रहा है।

शनिवार को बनहरी गांव के लोगों को बस्ती के बाहर गन्ने के खेत में किसी जंगली जानवर के मौजूद होने की जानकारी मिली। अफवाह फैल गई कि गांव में तेंदुआ घुस आया है। इसके बाद पुलिस और वन विभाग को सूचना दी गई। ग्रामीणों ने लाठी-डंडे लेकर गन्ने के खेत को घेर लिया। पुलिस और वन विभाग की टीम भी मौके पर पहुंची। इसी दौरान पता चला कि तेंदुआ नहीं लकड़बग्घा है। करीब तीन घंटे की मशक्कत के बाद ग्रामीणों ने खुद ही लकड़बग्घे को पकड़कर वन विभाग को सौंप दिया। मौके पर पहुंचे सीनियर वन संरक्षक धीरज कुमार ने बताया कि लकड़बग्घा अभी वयस्क नहीं है। उसे कानपुर चिडिय़ाघर भेजा जा रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि लकड़बग्घा कुछ दिनों से गांव के कुत्तों को अपना शिकार बना रहा था। लकड़बग्घे की कम उम्र के हिसाब से अंदाजा लगाया जा रहा है कि क्षेत्र में अभी और भी लकड़बग्घे मौजूद हो सकते हैं।  

Edited By: Akash Dwivedi