उन्नाव, जेएनएन। ओवरलोडेड वाहन पकडऩे के लिए अधिकारियों को अब जगह-जगह जांच नहीं करनी होगी और न ही उनके पीछे दौडऩे की जहमत उठानी होगी। टोल प्लाजा से गुजरते ही वाहन पर लोड माल की तौल हो जाएगी। क्षमता से अधिक भार होने पर चालान हो जाएगा। वाहन जाने के बाद भी उसका चालान वाहन स्वामी के घर पहुंचेगा। यह व्यवस्था आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर शुरू कराई गई है।

एक्सप्रेस-वे पर चलने वाले वाहनों में ओवरलोङ्क्षडग पर अब उप्र औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) ने शिकंजा कसना शुरू किया है। इसमें ऐसी व्यवस्था की जा रही है कि ओवरलोडेड वाहन टोल पर पहुंचते ही पकड़ा जाएगा और कार्रवाई की जाएगी। इसमें वाहन का चालान या जुर्माना या फिर दोनों भी किया जा सकता है। इसमें संबंधित वाहन चालक को उसका भुगतान उसी समय करना होगा। यदि कोई वाहन इससे बचकर निकल भी जाता है तो उसके भार की जानकारी यहां लगे भार मापक यंत्र में फीड हो जाएगी। बाद में संबंधित अधिकारी उस वाहन नंबर के आधार पर उसके मालिक के पते पर चालान और जुर्माना का नोटिस भेज देंगे।

रोजाना निकलते हैं करीब पांच सौ भारी वाहन

एक्सप्रेस-वे पर वैसे तो रोजाना हजारों वाहन निकलते हैं। इसमें छोटे-बड़े सवारी वाहनों के अलावा भारी वाहनों की संख्या भी काफी होती है। इनमें करीब पांच सौ ऐसे भारी वाहन भी होते हैं जो क्षमता से अधिक भार लेकर एक्सप्रेस-वे पर दौड़ रहे हैं। अब इनकी जांच आसानी से होगी।

इनका ये है कहना

एक्सप्रेस-वे स्थित टोल प्लाजा पर मालवाहक वाहनों की लेन में भार मापक यंत्र लगाया गया है। जो वाहन इससे होकर निकलेगा, उसका वजन सामने आ जाएगा। उस हिसाब से ही उस पर कार्रवाई होगी।

-रमेश चंद्र दुबे, मुख्य सुरक्षा अधिकारी यूपीडा-लखनऊ 

Posted By: Abhishek

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप