कानपुर, जेएनएन। 'हर हर महादेव' , 'हर हर गंगे' का उद्घोष, गंगा घाटों और लहरों पर टिमटिमाते लाखों दीपों की पवित्र आभा में मुस्करातीं मां गंगा। यह मनोहारी दृश्य था कार्तिक पूर्णिमा का। गंगा में तैरते दीपों को देख लगा कि मानों कोटि-कोटि तारे आसमान से धरा पर मां गंगा व देवी देवताओं के स्वागत को उतर आए हों। मां गंगा की लहरों की चूनर पर दीपों के सितारे टांक दिए गए हों और इसी चूनर को ओढ़कर मां गंगा कल कल करती हुईं बह रही हों। यह दृश्य शहर के सभी घाटों का था चाहे वह सरसैया घाट हो या फिर परमट घाट, सिद्धनाथ और मैग्जीन घाट। शाम को देव दीपावली महोत्सव हर किसी ने दीप जलाकर दीपोत्सव पर्व को उत्साह के साथ मनाया। दो लाख से अधिक दीप घाटों पर जले।

क्या आम, क्या खास हर कोई मां गंगा के शृंगार को पूरी तल्लीनता से दीया जलाने जुटा हुआ था। बच्चे, युवा, महिलाओं व बुजुर्ग सभी में घाटों और गंगा में दीपक प्रज्वलित करने की होड़ सी दिखी। झिलमिलाते दीपों से स्वास्तिक के शुभ चिह्न बनाए तो किसी ने दीपों से 'अविरल गंगा निर्मल गंगाÓ तो किसी ने 'जय मां गंगाÓ लिखा। दीपों से ही ऊँ की आकृति भी उकेरी तो किसी ने जय श्रीराम लिखा। इन आकृतियों ने तो लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। गंगा तट के किनारे युवतियों की टोली ने श्रीराम मंदिर व श्रीराम वंशावली बनाकर श्रद्धालुओं को मंत्रमुग्ध किया। आतिशबाजी से आसमान सतरंगी भी हुआ। फुलझडिय़ां, आतिशबाजी और जगमागते दीपों को देखकर तो लगा कि जैसे सामान्य जन नहीं बल्कि देवतागण दीपावली मना रहे हों।

परमट घाट पर शिव बंधु सेवा संस्थान के 51 हजार दीप जलाकर कार्तिक पूर्णिमा के पर्व को मनोहारी बना दिया। इस अवसर पर आदित्य प्रकाश गुप्ता, अंकित द्विवेदी, विशाल नारायण द्विवेदी, विजय त्रिवेदी व अजय पुजारी ने दीपदान किया। वहीं सरसैया घाट पर मां गंगा सेवा समिति द्वारा गंगा मैया की महाआरती का आयोजन किया गया। घाट पर सैकड़ों श्रद्धालुओं ने जय हो गंगा मईया के उद्घोष के बीच आरती कर सुख-समृद्धि की कामना की। डीएम विजय विश्वास पंत व महामंडलेश्वर दामोदर दास महाराज समिति के अध्यक्ष पंडित दीनानाथ द्विवेदी ने आरती की। सचिन गुप्ता, डॉ. श्याम बाबू गुप्ता, डॉ. गया प्रसाद शर्मा, डॉ. कुशल द्विवेदी, दिलीप आदि रहे।

लहरों पर तैरते और घाटों पर जगमगाते दीये तो हर किसी के आकर्षण का केंद्र रहे। हर कोई पतित पावनी गंगा और श्रीहरि विष्णु के निमित्त एक दीपक जलाकर सुख समृद्धि व ऐश्वर्य का वरदान पा लेना चाह रहे थे। खुद के जीवन को धन्य कर लेने को आतुर दिखे। हजारों दीप जब एक साथ घाट पर टिमटिमाये और गंगा में प्रवाहित किये गये तो वैदिक मंत्र गूंज उठे। तमाम सेना के जवानों और एनसीसी कैडेड्स और छात्रों ने भी दीये से दीया जलाकर घाट को रौशन करने का कार्य किया।

वहीं जाजमऊ स्थित सिद्धनाथ घाट पर वैदिक सनातन धर्मोउत्थान सेवा समिति द्वारा 71 सौ दीप जलाकर गंगा मां की आरती की गई। अरुण द्विवेदी, शिवाकांत दीक्षित, गौरव गुप्ता, विनोद दीक्षित, गिरिजाशंकर पांडेय, अश्वनी दीक्षित, अर्पित उपस्थित रहे। श्याम नगर स्थित एलआइसी पार्क में महामंडलेश्वर जितेंद्र दास ने दीप जाकर श्रद्धालु संग देव दीपावली मनाई। मंदिर में सजी रंगोली प्रतियोगिता में प्रज्ञा श्रीवास्तव को पहला स्तुति शुक्ला व अनुराधा द्विवेदी को तीसरा स्थान मिला।

इन घाटों पर जगमग हुए दीप

शेखपुर से बिठूर तक 24 घाटों पर दीपदान किया गया। साथ ही घाटों पर सजावट की गई। कमलेश्वर घाट, आनंदेश्वर घाट, गणेश घाट, अस्पताल घाट, भैंरव घाट, रानी घाट, सिद्धनाथ घाट, बाबाघाट, काली मठिया घाट, मैस्कर घाट, गोलाघाट, भगवतदास घाट, गुप्तार घाट, मौनी घाट, बंगाली घाट, व कोयला घाट पर दीप जलाए गए।

सत्यम शिवम सुंदरम... पर झूमे भक्त

गंगा बैराज स्थित अटल घाट में देव दीपावली के पावन पर्व पर देर शाम हजारों की संख्या में श्रद्धालु एकत्र हुए। देव दीपावली पर अटल घाट को दुल्हन की तरह से सजाया गया था। गंगा देव दीपावली समिति और श्री मानस प्रचार समिति के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम की शुरुआत गंगा आरती से हुई। श्रद्धालुओं ने हजारों की संख्या में दीपक जलाकर मां गंगा में प्रवाहित कर उनकी पूजा की। हर हर महादेव, जय श्री राम और जय गंगा मैया के गगनभेदी नारों के बीच श्रद्धालु घंटों तक भक्ति के इस अगाध समुद्र में गोते लगाते रहे। इस मौके पर रंग बिरंगी आतिशबाजी भी दर्शनीय रही।

इसके बाद शरद शुक्ला व वंदना द्वारा शिव नाम तेरी महिमा...सत्यम शिवम सुंदरम... ओम नम: शिवाय आदि सुंदर भजनों को प्रस्तुत कर तालियां बटोरी। इस मौके पर उच्च शिक्षा राज्य मंत्री नीलिमा कटियार, सांसद सुब्रत पाठक, सीएसजेएमयू की कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता, महामंडलेश्वर विनय स्वरूपा नंद जी सरस्वती, उदिता नंद ब्रह्मचारी, एडीएम सिटी विवेक श्रीवास्तव, गंगा देव दीपावली समिति के महामंत्री प्रवीण शुक्ला, आशीष पांडेय, गौरव द्विवेदी, धर्म संघ संयोजक शेष नारायण त्रिवेदी, निर्मल तिवारी मौजूद रहे।  

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस