कानपुर, जेएनएन। लॉकडाउन के बीच मुकद्दस रमजान के पूरे रोजे रखने के बाद रोजेदारों को ईद का तोहफा मिला तो चेहरों की रौनक बढ़ गयी। बंदिशों के बीच मुस्लिमों ने घरों में ईद ीकी नमाज अदा की और जश्न मनाया। वाट्सएप और फेसबुक पर एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद देकर खुशी का इजहार किया। नमाज अदा करने के बाद देश की खुशहाली और कोरोना से निजात की दुआ मांगी। नमाज के वक्त सड़कों पर लॉकडाउन की सख्ती नजर आई।

कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर ईद का जश्न घरो में मनाने की अपील की गई थी। संक्रमण फैलने की आशंका के चलते ईदगाहों व मस्जिदों में जमात के साथ ईद की नमाज अदा करने को मना किया गया था। ईद की तैयारियां चांद रात से ही शुरू हो गई थी। किराना की दुकानों पर सेवइयां व अन्य सामान खरीदने के लिए रविवार को लोगों का तांता लगा रहा। रात को ही घरों साफ सफाई के साथ सजावट होने लगी। सुबह हुई तो लोग नमाज की तैयारियों में जुट गए। कुर्ता-पजामा पहन और सिर पर टोली लगाने के बाद नमाज अदा की गई। इस दौरान लोगों को ईदगाह न जाने का अफसोस भी रहा।

लॉकडाउन का पालन करते हुए मुस्लिमों ने घरों पर ही नमाज अदा की और माहौल बेहतर होने, देश में खुशहाली, कोरोना से निजात, बीमारों की सेहत व हिफाजत की दुआ की। नमाज के बाद एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद देने का सिलसिला शुरू हुआ। फेसबुक लाइव, वाट्सएप समेत सोशल साइट्स पर एक दूसरे को मुबारकबाद देते रहे। मेहमाननवाजी न कर पाने के हालात में एक दूसरे को घर पर बनाई लजीज सेवइयों समेेत अन्य पकवानों की फोटो शेयर भी करते रहे। हालात बेहतर होने व लॉकडाउन खत्म होने पर साथ खुशियां मनाने का वादा भी किया। ईद पर बच्चे भी खासा उत्साहित नजर आए।

Posted By: Abhishek Agnihotri

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस